योगीराज में जल रहा कासगंज, दंगाइयों के सामने बैकफुट पर प्रशासन, देखें यह खौफनाक वीडियो

जियाउर्रहमान/ लखनऊ | सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकार बनने के बाद कहा था कि अब यूपी में दंगे नहीं होंगे लेकिन एक वर्ष पूरा होने से पहले ही यूपी का कासगंज जिला दंगे की आग में जल गया है | कासगंज शहर में तिरंगा यात्रा के दौरान भगवा फहराने और जयश्री राम के नारों से शुरू हुए विवाद के बाद पूरे शहर में आग फ़ैल गयी | पथराव और फायरिंग में दो बहुसंख्यक युवको के मौत की खबर है | एक युवक चन्दन के अंतिम संस्कार के बाद शनिवार को भगवाधारियों ने शहर में जमकर उत्पात मचाया | सैंकड़ो युवाओं के जत्थों ने शहर भर में तोड़फोड़ की | दुकानों में आ लगा दी और जो भी मिला उसे आग के हवाले कर दिया | प्रशासन सत्ता के आगे बेबस नजर आया |


शनिवार सुबह से ही कासगंज में बड़े उपद्रव की आशंका व्यक्त की जा रही थी लेकिन प्रशासन ने ढील रखी | उसका यह नतीजा हुआ कि हाथों में ईंट और पत्थर लेकर लौटती भीड़ ने कासगंज की अमन में एक बार फिर अशांति फैला दी | डीएम, एसपी, आईजी, कमिश्नर से लेकर कई जिलो के फ़ोर्स के इंतजाम भी दंगाइयों पर लगाम नहीं लगा सके | कई मुस्लिम लडको के लापता होने की खबर है |

बड़ी बात यह है कि योगी सरकार द्वारा हिंसा को रोकने के लिए अभी तक कोई प्रभावी कार्यवाही नही की गयी है | भाजपाई पूरा इल्जाम प्रशासन पर लगा रहे हैं लेकिन खुद के समर्थको को हिंसा से नहीं रोक रहे | सरकार का न कोई मंत्री अभी तक पहुंचा है और न ही बड़ा अधिकारी | सूबे के बड़े प्रशासनिक अफसर लखनऊ से ही स्थिति का जायजा ले रहे हैं | कासगंज आने तक की जहमत अभी तक किसी ने नहीं उठाई है | शहर के अलावा जिले के देहात और अन्य कस्बो में भी भय का माहौल बना हुआ है | सोशल मीडिया से सामने आ रहे वीडियो ने लोगो को और भयभीत कर दिया है |जिले के प्रशासन के बैकफुट पर आजाने से भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं ?

अब देखना यह है कि योगी सरकार कब तक कासगंज हिंसा पर रोक लगा पाती है ?