आवारा पशुओं से किसान बेहाल, योगी के मंत्री संदीप के गांव की सरकारी इमारत में बांधे गौवंश, आक्रोश बन सकता है चिंगारी

अलीगढ़ । यूपी में आवारा पशुओं और गौवंशो से किसान त्राहि त्राहि कर रहा है । अलीगढ़ के इगलास और खैर क्षेत्र में किसानों ने सरकारी भवनों में आवारा पशुओं को बांधना शुरू कर दिया है। वहीं योगी सरकार में राज्यमंत्री संदीप सिंह के गांव के किसानो ने भी आवारा गौवंशो को सरकारी इमारत में बंद कर दिया । अलीगढ़ के किसानो में सरकार और प्रशासन के खिलाफ आक्रोश बड़ता जा रहा है । प्रशासन के हाथ-पांव किसानो के तेवर देख फूले हुए हैं । यह मुद्दा कभी भी गांवों में चिंगारी बन सकता है ।

दरअसल राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के पैत्रक गांव मढ़ौली के किसान भी देखादेखी जंगलों से आवारा गोवंश को लाठी-बल्लम की मदद से गांव में खदेड़ लाए और पेयजल के लिए लगे नलकूप परिसर में इन पशुओं को बंद कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने गोवंश को दौड़ाने वाले किसानों से लाठी, बल्लम छीने और ताला तोड़कर बंद किए गए गोवंश को छुड़ाया। इस दौरान एक सांड़ के हमले में एक किसान की गाय की मौत हो गई। गोवली, नगला लोधी के सरकारी स्कूल और निसारपुर गांव में एक खाली प्लाट में किसानों ने गोवंश बंद कर दिए। इन गोवंश को छुड़वाने के दौरान पुलिस और ग्रामीणों की जमकर नोकझोंक हुई।

कल्याण सिंह के पौत्र संदीप सिंह प्रदेश सरकार में शिक्षा राज्यमंत्री हैं। मढ़ौली में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के पीछे नगर पालिका के पेयजल टंकी परिसर में आवारा गोवंश को बंद करने के बाद किसानों ने बाहर से ताला जड़ दिया। फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे कोतवाल प्रवेश राणा ने किसी तरह गोवंश को वहां से बाहर निकाला। इस दौरान एक सांड़ के हमले से मढ़ौली निवासी हरवीर सिंह की गाय की मौत हो गई। इसके बाद पुलिस को सूचना मिली कि गांव गोवली के सरकारी स्कूल में किसानों ने 50 से अधिक गोवंश को बंद कर दिया गया है। सुबह 9.30 बजे स्कूल के हेडमास्टर मुकेश बाबू व शिक्षिका गिरजेश शर्मा मौके पर पहुंची तो स्कूल के गेट पर ताला लगा था। अंदर गोवंश भरे थे। एक गाय की हालत खराब थी।

एसडीएम शिवकुमार ने ताला तुड़वाकर गोवंश बाहर निकलवाए, जिसके बाद पूर्वाह्न 11:30 बजे स्कूल में पढ़ाई शुरू हो सकी। उधर गांव नगला लोधा के सरकारी स्कूल में भी किसानों ने गोवंश बंद कर दिया था। यहां भी फोर्स के साथ पहुंचे एसडीएम ने गोवंश को बाहर निकलवाया। यहां किसानों ने जमकर हंगामा व नारेबाजी की।एसडीएम ने किसी तरह समझाकर लोगों को शांत कराया। गांव निसारपुर में भी कुछ इसी तरह का हंगामा रहा। यहां किसानों ने खाली पड़े एक प्लाट पर गोवंश को बंद कर रखा था। यहां भी किसानों की अधिकारियों से तीखी नोकझोंक हुई ।