योगी गुंडे-बदमाशों को चेतावनी देते रहें लेकिन उनके पार्टी के ही कार्यकर्ता उनकी धज्जियां उड़ा रहे…

कानपुर। कानपुर के नौबस्ता में बीजेपी कार्यकर्ताओं के हौसले इतने बुलंद हैं कि वो थाने में घुसकर पहले तो पुलिसवालों से मारपीट करते हैं फिर एक आरोपी को भी छुड़ाकर ले जाते हैं। सत्ता संभालने के बाद से सीएम योगी आदित्यनाथ लगातार गुंडे-बदमाशों को प्रदेश छोड़कर जाने की चेतावनी देते रहे हैं। उनके पार्टी के ही कार्यकर्ता उनकी इस चेतावनी की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

बता दें कि नौबस्ता थाना क्षेत्र के ईडब्लूएस कॉलोनी की रहने वाली एक महिला ने अपनी कॉलोनी के 5 लड़कों पर गाली-गलौज करने, पति के साथ मारपीट करने और अश्लील फब्तियां कसने का आरोप लगाया था। इसके संमंध में उन्होंने पुलिस को तहरीर भी दी। इसके बाद यशोदानगर चौकी इंचार्ज महेश यादव 2 युवकों (जोधा और नीरज ठाकुर) को थाने ले आए। जब वार्ड नंबर 95 से पार्षद प्रशांत शुक्ला को इसकी जानकारी हुई तो वो अपने 20-25 साथियों को लेकर पुलिस चौकी पहुंच गए। इसके बाद वो लोग आरोपियों को जबरन छुड़ाकर अपने साथ ले जाने लगे। जब सिपाही प्रेम ने उनका विरोध किया तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सिपाही से धक्का-मुक्की की और उसे मारने के लिए दौड़ा लिया। इसके बाद सिपाही ने मालखाने में छिपकर अपनी जान बचाई।

नौबस्ता थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार के मुताबिक बीते मंगलवार को कुछ लोगों ने सरकारी काम में बाधा डालने का काम किया था। जिस पर यशोदा नगर चौकी इंचार्ज की तहरीर पर नीरज ठाकुर जोधा समेत 15 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पीड़ित महिला का कहना है कि बीजेपी पार्षद प्रशांत शुक्ला यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री सतीश महाना का खास है। मेरे कॉलोनी में रहने वाले नीरज ठाकुर, मुन्ना पाण्डेय, जोधा, अनुराग दुबे और पीयूष दुबे बीजेपी के कार्यकर्ता हैं और प्रशांत शुक्ला के साथी हैं। पीड़िता ने बताया मैं माता के जागरण में सिंगिंग करती हूं। रात को जागरण के प्रोग्राम की वजह से अक्सर लेट हो जाता है। ये लड़के रात को घर आते समय मुझे परेशान करते हैं। अश्लील फब्तियां कसते हैं। जब मेरे पति ने इनका विरोध किया था तो इन लड़कों ने मारपीट भी की। इससे आजीज आकर मैंने पुलिस को शिकायत दी थी।