यज्ञ का बड़ा महत्त्व हिन्दू धर्म में…..

भारतीय संस्कृति के प्राण है यज्ञ

लखनऊ। वैदिक सनातन संस्कृति की यज्ञ महत्ता को अंगीकार करते हुए सुख शांति एवम विश्व कल्याण हेतु गायत्री शक्ति पीठ रामपुर देवरई बक्शी का तालाब लखनऊ मे चल रहे विराट गायत्री महायज्ञ के दूसरे दिवस आचार्य भारत प्रसाद शुक्ल वैदिक मन्त्रो द्वारा इक्यावन कुंडो पर सैकड़ो भक्तो का यज्ञ सम्पन्न कराया।

हिन्दू धर्म में है यज्ञ का बड़ा महत्त्व
भारतीय संस्कृति का प्राण यज्ञ है हिन्दू धर्म में जितना महत्व यज्ञ को दिया गया है उतना और किसी को नहीं। हमारा कोई भी शुभ व अशुभ धर्म कार्य इसके बिना पूरा नही होता है। जन्म से मृत्यु तक सभी सोलह संस्कारो मे यज्ञ की बहुत ही प्रशंसा महत्ता का वर्णन किया गया है। आज यज्ञ के बाद जप भजन कीर्तन आदि कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। आज के मुख्य अतिथि डॉक्टर संदीप कुमार प्रो. सर्जरी एन्ड फाउंडर डायरेक्टर एम्स भोपाल गायत्री शक्तिपीठ, ट्रस्टी मेजर वीके खरे, डा. एपी शुक्ल मुख्य यजमान धनपाल सिंह फौजी, आभा श्रीवास्तव एवं गणमान्य लोग और सैकड़ो भक्त गण उपस्थित हुए।