समलैंगिक संबंधों में बाधक पति की पत्नी और उसकी प्रेमिका ने की हत्या, अलीगढ़ में सामने आया यह हैरतअंगेज मामला-

अलीगढ़ । गांधी पार्क क्षेत्र की कुंवर नगर कॉलोनी में मंगलवार रात हुई सटरिंग कारीगर भूरी सिंह गोस्वामी की हत्या पत्नी के किरायेदार से प्रेम संबंधों में नहीं, बल्कि किरायेदार की पत्नी से समलैंगिक संबंधों में बाधक बनने पर की गई। इस हत्या को पूरी प्लानिंग के तहत अंजाम दिया गया। हत्या होली के दिन की जाएगी। इस बात की योजना उसकी पत्नी और उसकी समलैंगिक प्रेमिका ने एक महीने पहले ही बना ली थी। दो साल से दोनों के बीच समलैंगिक संबंध थे। भूरी सिंह द्वारा इसका विरोध करना ही हत्या की वजह बना। जिले में यह दूसरा ऐसा मामला सामने आया है कि जब दो महिलाओं के बीच समलैंगिक संबंध बने हैं और विरोध करने पर उन्होंने हत्या की है।

कई वर्षों पहले अतरौली में दो महिलाओं के बीच समलैंगिक संबंधों का मामला प्रकाश में आया था। यह दूसरा ऐसा प्रकरण है। बृहस्पतिवार को पुलिस लाइन में एसपी सिटी अभिषेक ने पत्रकार वार्ता में बताया कि बुधवार को सुबह 7 बजे जब पुलिस को मोहल्ला कुंवर नगर में किशन गोस्वामी के मकान के बाहर नाली में लाश पड़ी होने की सूचना मिली तो वह मौके पर पहुंची। शिनाख्त भूरी सिंह गोस्वामी के रूप में हुई। पोस्टमार्टम में पाया गया कि गले पर रस्सी से गला घोंटने के निशान थे। हत्या की वजह भी गला घोंटना ही बनी।

मृतक के भाई किशन गोस्वामी ने इस हत्या में मृतक की पत्नी, किराएदार हरिओम, डब्बू और उसकी पत्नी, हरिओम के दोस्त आसिफ के खिलाफ षड्यंत्र रचकर हत्या करने का मुकदमा दर्ज करा दिया था। वजह भूरी की पत्नी व डब्बू की पत्नी के प्रेम संबंध बताए। पुलिस ने साक्ष्यों के आधार पर जब पत्नी और डब्बू की पत्नी से पूछताछ की तो वह टूट गईं और अपना जुर्म कबूल कर लिया। दोनों ने बताया कि पिछले दो वर्षों से उनके बीच समलैंगिक रिश्ते थे। एक साल पहले ही मृतक की पत्नी ने अपने मकान के ऊपर एक कमरा बनवाया जिसमें एक वर्ष से उसकी प्रेमिका और उसका पति किराये पर रह रहे थे। उससे पहले वह दोनों बड़े भाई के मकान में ही किराये पर थे। कुछ समय पहले ही भूरी सिंह को दोनों महिलाओं के प्रेम संबंधों का पता चला था और वह इसका विरोध कर रहा था।

घटना वाले दिन दोनों ने भूरी सिंह को जमकर शराब पिलाई और नशे में ही हाथ पैर बांधकर गला घोंट कर हत्या कर दी। लाश को किशन गोस्वामी के मकान के आगे नाली में गिरा दिया। अफवाह फैला दी कि ठेकेदार से रुपये लेने गया था तभी से घर नहीं आया है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त रस्सी, टेप आदि को बरामद कर लिया है। दोनों हत्या आरोपियों को जेल भेज दिया है। इस मौके पर खुलासे में अहम भूमिका निभाने वाले सीओ द्वितीय पंकज श्रीवास्तव, इंस्पेक्टर सुधीर धामा मौजूद रहे।