CAA को लेकर नार्थ-ईस्ट दिल्ली में भारी हिंसा, अबतक 5 की मौत, दहशत और भय का माहौल

नई दिल्ली । नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध और समर्थन को लेकर सोमवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली में चार जगहों पर हिंसा भड़क उठी। इस दौरान एक पुलिसकर्मी समेत पांच लोगों की मौत हो गई। हिंसा में डीसीपी, समेत 60 से ज्यादा घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हालात पर काबू पाने के लिए आपात बैठक बुलाई थी। फिलहाल दिल्ली के इन इलाकों में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

जाफराबाद में भीड़ ने एक पेट्रोल पंप, 25 से अधिक दुकानों, दो मकानों और 35 वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। हिंसा के दौरान चांदबाग इलाके में तैनात पुलिसकर्मी रतनलाल को गंभीर चोट लगी। उन्हें जीटीबी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीं चांदबाग और मुस्तफाबाद में दो नागरिकों की मौत हो गई।

मौजपुर चौक पर सोमवार को धरने पर बैठे लोगों पर सुबह 11 बजे कबीरनगर की तरफ से आए लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद चांदबाग में भी पथराव और आगजनी की घटनाएं शुरू हो गई। हिंसा के बाद उत्तर पूर्वी दिल्ली में धारा 144 लागू कर दी गई है।

12 पुलिसकर्मी घायल-
हिंसा को काबू करने में जुटे डीसीपी अमित शर्मा समेत 12 पुलिसकर्मी घायल हो गए। वहीं पथराव करने वाले दोनों पक्ष के करीब 100 से अधिक लोग घायल हुए।