उत्तराखंड : मोदी पहुंचे केदारनाथ, हरिद्वार में बाबा रामदेव ने राष्ट्रऋषि का दिया सम्मान

देहरादून। प्रधानमंत्री ने बुधवार की सुबह पवित्र केदारनाथ मंदिर के वार्षिक गेट उद्घाटन समारोह में भाग लिया. पीएम नरेन्द्र मोदी आज एक दिवसीय दौरे पर उत्तराखंड पहुंचे हैं |  पीएम सुबह जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे . मोदी बुधवार को सुबह 9:15 बजे केदारनाथ पहुंचे. केदारनाथ धाम में पीएम ने करीब एक घंटा बिताया. चार धामों में से एक केदारनाथ मंदिर के पवित्र गर्भगृह में प्रधानमंत्री ने पूजा-अर्चना की. मोदी ने शिव मंदिर में पूजा-अर्चना की और रुद्राभिषेक किया.
उत्तराखंड के गवर्नर श्री के के पॉल, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने राज्य को मोदी का स्वागत किया. प्रधानमंत्री को मंदिर की एक प्रतिमूर्ति भी भेंट की गई. यहां पूजा अर्चना के बाद पीएम हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ पहुंचे. जहां वो एक शोध संस्थान का उद्घाटन किया. केदारनाथ धाम के कपाट आज ही 8 बजकर 50 मिनट पर खुल गए हैं. केदारनाथ मंदिर के दरवाजे आज से छह महीने के लंबे समय अंतराल के बाद भक्तों के लिए खुले हैं. 2013 में बाढ़ और भारी बारिश में केदारनाथ का तबाह हो गया था, जब हजारों लोग मारे गए थे और सैकड़ों गायब हो गए थे.
पीएम मोदी केदारनाथ धाम आने वाले तीसरे प्रधानमंत्री होंगे इसके पहले 1980 में इंदिरा गांधी और 1989 में वीपी सिंह बाबा के दर्शन के लिए आए थे लेकिन पीएम मोदी पहले पीएम हैं जो केदारनाथ के कपाट खुलने के दिन ही वहां दर्शन के लिए पहुंचे हैं.
प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर मंगलवार को तीनों जगहों पर रिहर्सल किया गया. पीएम की सुरक्षा के लिए करीब 4500 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए. इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज हरिद्वार में स्वामी रामदेव के पतंजलि योगपीठ का उद्घाटन किया. इस मौके पर पीएम ने कहा कि बाबा रामदेव ने राष्ट्रऋषि का सम्मान देकर मेरी जिम्मेदारी बढ़ा दी है.
उन्होंने कहा कि सम्मान मिलने से उम्मीदें बढ़ जाती हैं, सम्मान मिलने का मतलब अपेक्षाओं को पूरा करना है. पीएम ने कहा मुझे देश के लोगों के आशीर्वाद पर पूरा विश्वास है और वे ही मेरी ऊर्जा का स्त्रोत हैं. उन्होंने कहा, मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं, हम उस ऐतिहासिक विरासत को अनदेखा नहीं करेंगे जिस पर हम ऐतिहासिक रूप से गर्व करते हैं. बाबा रामदेव की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि योग एक ऐसा विज्ञान है जो आत्मा की चेतना के लिए जरूरी है, बाबा रामदेव ने योग को आंदोलन बना दिया और दुनिया में योग के प्रति जिज्ञासा पैदा की.
-एजेंसी