उत्तराखंड चुनाव 2022: जानें किस तरह से कमजोर सीटों पर प्रचार करेगी कांग्रेस, इन तीन मुद्दों को दी जा रही जगह

देहरादून। उत्तराखंड विधान सभा इलेक्शन 2022 कांग्रेस तीन दिन बाद आक्रामक चुनाव प्रचार शुरू करने जा रही है। सघन चुनाव प्रचार के माध्यम से कमजोर समझी जाने वाली सीटों पर दमदार प्रदर्शन की तैयारी है। पिछले विधानसभा चुनाव से सीख लेकर पार्टी ज्यादा सावधानी बरत रही है। सत्तारूढ़ दल भाजपा की तैयारी को ध्यान में रखकर प्रमुख प्रतिपक्षी पार्टी ने एक्शन प्लान तैयार किया है। महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार पर इसे केंद्रित किया गया है।

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सिर्फ 11 सीटों पर ही सिमट गई थी, जबकि भाजपा 57 सीटों के साथ प्रचंड बहुमत हासिल करने में सफल रही थी। अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए कांग्रेस कमर कस चुकी है। बीते सितंबर माह में ही परिवर्तन यात्रा शुरू कर चुकी पार्टी अब बदली रणनीति के साथ विधानसभा क्षेत्रवार चुनाव कार्यक्रम तय कर रही है। इसमें भी सबसे पहले उन सीटों पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा, जहां पार्टी स्वयं को अपेक्षाकृत कमजोर मान रही है।

ऐसे करीब 30 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव प्रचार के लिए तूफानी दौरे होंगे। पार्टी के राज्य स्तरीय सभी दिग्गज इन क्षेत्रों में भेजे जाएंगे। सभी चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने के लिए ताकत झोंकेंगे। बूथ स्तर तक चुनाव प्रचार की रूपरेखा तैयार की जा रही है। ब्लाक और तहसील स्तरीय सभाओं में राज्य स्तरीय नेताओं के एक के बाद एक, कई कार्यक्रम होंगे। इनके माध्यम से बूथ स्तर पर प्रशिक्षित किए गए कार्यकत्र्ताओं को चुनावी युद्ध के लिए तैयार किया जाएगा। पार्टी अभी तक 66 विधानसभा क्षेत्रों में 17 हजार से ज्यादा बूथ स्तरीय कार्यकत्र्ताओं को प्रशिक्षित कर चुकी है। इनके माध्यम से ज्यादा से ज्यादा आम व्यक्तियों तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल का कहना है कि अगले पखवाड़े में कांग्रेस तूफानी दौरे शुरू करने जा रही है। खासतौर पर 30 विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार में ताकत झोंकी जाएगी। राज्य स्तरीय नेताओं के बाद केंद्र से दिग्गज नेताओं व स्टार प्रचारकों के कार्यक्रम भी इन क्षेत्रों में लगाए जाएंगे। टिकट वितरण से पहले इन क्षेत्रों में चुनावी माहौल को धार दी जाएगी। टिकट वितरण के बाद इन क्षेत्रों के लिए चुनाव प्रचार की अगली रणनीति तैयार की जाएगी। पहले चरण के चुनाव प्रचार अभियान में रह गईं खामियों को दूर किया जाएगा।

कांग्रेस का चुनाव घोषणापत्र अगले माह के पहले पखवाड़े तक तैयार होगा। घोषणापत्र का जिम्मा संभाल रही समिति राज्य के अलग-अलग क्षेत्रों व कोनों से जनता का फीडबैक ले रही है। उन्होंने दावा किया कि पार्टी का घोषणापत्र जनता की अभिलाषा और आकांक्षा का प्रतिबिंब होगा।