जयंत चौधरी को नहीं रोक सकी UP पुलिस, मेरठ-मुजफ्फरनगर में मृतकों के परिजनों से मिले RLD उपाध्यक्ष

मेरठ | राहुल-प्रियंका भले ही मेरठ न पहुँच पाए हों लेकिन रालोद के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने प्रशासन के रोकने के सभी इंतजामों को धता बताकर हिंसा के पीड़ितों से मुलाकात की | जयंत चौधरी ने योगी सरकार पर भी जमकर हमला बोलै | रालोद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने गुरुवार को पुलिस को चकमा देकर मेरठ और मुजफ्फरनगर में नागरिकता कानून के विरोध में हुई हिंसा व उपद्रव में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाकात की। जयंत ने पीड़ितों से मिलने का अपना वायदा पूरा कर दिया है |

गुरुवार को जयंत चौधरी पुलिस को चकमा देकर सुबह चार बजे मुजफ्फरनगर पहुंचे और यहां उपद्रव में मारे गए नूरा के परिजनों से मुलाकात की। इसके बाद जयंत ने मेरठ का रुख किया और पुलिस को चकमा देकर शहर के लिसाड़ीगेट क्षेत्र में पहुंचे। यहां उन्होंने हिंसक प्रदर्शन में मारे गए पांचों मृतकों के परिवारों से मुलाकात की।

बताते चलें कि बुधवार दोपहर जयंत को मेरठ-मुजफ्फरनगर मार्ग पर खतौली बाईपास के नजदीक रोक दिया गया था। वह यहां उपद्रव में मारे गए नूरा के घर जा रहे थे। लेकिन पुलिस ने उन्हें नहीं दिया गया। इसके बाद जयंत गुरुवार को आने की बात कहकर वापस लौट गए थे। मेरठ में बीच शहर में शुक्रवार को हुए उपद्रव के चलते रहमतनगर खालापार निवासी नूरा की गोली लगने से मौत हो गई थी।