UP में बड़ी छेड़खानी की शिकायतें, लखनऊ टॉप पर

लखनऊ। आंकड़े बताते हैं कि लखनऊ मनचलों के कारण छेड़खानी में नंबर-1 पर पहुंच गया है। युवतियों और महिलाओं को छेड़खानी से बचाने के लिए बनाई गई वुमन पावर लाइन के आंकड़े लखनऊ को शर्मसार करने वाले हैं। वहीं, पावर लाइन की शुरुआत से अब तक टॉप-5 में मेट्रो सिटीज ने अपनी जगह बना रखी है।

शुरुआत से ही छेड़खानी की शिकायतों में पहले पायदान पर जगह बनाए रखने वाले लखनऊ ने इस साल के शुरुआती 10 महीनों में भी अपना पहला स्थान बरकरार रखा है. 15 नवंबर 2012 में वुमन पावर लाइन की शुरुआत से अब तक कुल 8.10 लाख शिकायतें दर्ज की गईं हैं. इनमें अकेले लखनऊ से 1.53 लाख शिकायतें दर्ज हुई हैं। दूसरे नंबर पर कानपुर, तीसरे पर इलाहाबाद, चौथे पर वाराणसी और पांचवे पर गोरखपुर है. वहीं, कम शिकायतों की बात करें तो विकास के मामलों में पिछड़े शहर छेड़खानी में भी ‘पिछड़े’ साबित हुए हैं। इनमें श्रावस्ती से 1194, ललितपुर से 2082, कासगंज से 2270, चित्रकूट से 2273 और कौशांबी से 2434 शिकायते ही दर्ज की गईं हैं
। सबसे ज्यादा छात्राएं हो रही शिकार
वुमन पावरलाइन में प्रदेश भर से दर्ज शिकायतों पर गौर करें तो मनचले सबसे ज्यादा छात्राओं को शिकार बना रहे हैं. कुल शिकायतों में 3.84 लाख शिकायतें छात्राओं ने दर्ज कराईं. वहीं दूसरे नंबर पर नॉन वर्किंग युवतियां व महिलाएं इनका शिकार बनी हैं। ऐसी शिकायतों की तादाद 3.11 लाख के करीब है. मनचलों ने 1.15 लाख से ज्यादा वर्किंग वुमेन्स को अपना निशाना बनाया।
उम्र का भी नहीं लिहाज

प्रदेश भर के आंकड़ों की पड़ताल से पता चलता है कि मनचलों के लिए उम्र का भी कोई लिहाज नहीं है। आलम यह है कि शिकायतकर्ताओं ने 15 साल से कम उम्र की बच्चियों से लेकर 50 साल से ज्यादा उम्र की बुजुर्ग महिलाएं भी शामिल हैं। वुमन पावर लाइन में अब तक दर्ज हुई शिकायतों में 15 साल से कम उम्र की 17 हजार के करीब पीड़िताएं शिकायत दर्ज करा चुकी हैं.। वहीं, 55 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं द्वारा की गई शिकायतों की तादाद 62 हजार से ज्यादा है।
कौन किस स्थान पर
शहर शिकायतें
1. लखनऊ 1,53,057
2. कानपुर सिटी 39513
3. इलाहाबाद 31,497
4. वाराणसी 30965
5. गोरखपुर 20935