मदरसों बंद करना समाधान नहीं, आधुनिकरण जरुरी : सीएम योगी

लखनऊ | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मदरसों को बंद करना कोई समाधान नहीं है। उनका आधुनिकीकरण किया जाना चाहिए। उनमें विज्ञान और कंप्यूटर की शिक्षा मिलनी चाहिए। संस्कृत विद्यालयों को भी परंपरागत शिक्षा के साथ ही अंग्रेजी, कंप्यूटर व साइंस का ज्ञान देना चाहिए। योगी बृहस्पतिवार को विधानभवन के तिलक हॉल में नौ राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के अल्पसंख्यक कार्य एवं समाज कल्याण मंत्रियों, सचिवों व वरिष्ठ अधिकारियों की समन्वय बैठक के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि शिक्षा के माध्यम से ही बेहतर भविष्य की राह खुलेगी और बड़ा तबका राष्ट्र निर्माण के अभियान में भागीदार बनेगा।

योगी ने कहा, शरीर का एक अंग काम करना बंद कर दे तो व्यक्ति दिव्यांग हो जाता है। इसी तरह यदि समाज का एक वर्ग उपेक्षित हो तो उस पर क्या बीतती है। यह वर्ग कुछ अतिरिक्त नहीं, शासन की योजनाओं में अपना हिस्सा मांगता है। सरकारी योजनाएं अफसरों की जवाबदेही के अभाव में आम आदमी तक नहीं पहुंच पातीं। इसी से असंतोष पैदा होता है। अधिकारी संवाद स्थापित नहीं करते हैं, ईमानदारी से कोशिश की जाए कि जिनके लिए योजनाएं चलाई जा रही है, उन्हें इनकी जानकारी हो। इसके लिए उनके क्षेत्रों में होर्डिंग्स लगाई जाएं। योजनाओं में केवल कागजी खानापूर्ति नहीं होनी चाहिए।