‘यूपी 100 UP’ ने 47,25,034 घटनाओं में पहुंचाई मदद, अखिलेश यादव की हो रही प्रशंसा

नई दिल्ली | नए डीजीपी के अभाव में ‘यूपी 100 UP’ ने धूमधाम से मनाई पहली बर्षगांठ, पुलिसकर्मियों के साथ नागरिक भी किये गए सम्मानित।
लखनऊ। वर्तमान समय में ‘यूपी 100 UP’ के नाम से पहचान बना चुकी ‘डॉयल 100’ आपातकालीन सेवा का एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में आज यानि 10 जनवरी 2017 को पहली वर्षगांठ बड़े ही धूमधाम से मनाई गई। समारोह का आयोजन शहीद पथ स्थित डॉयल 100 के मुख्यालय में किया गया था। पहली वर्षगांठ पर तमाम पुलिस के अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे, लेकिन इस भव्य कार्यक्रम में यूपी के नये डीजीपी ओपी सिंह की कमी महशूस हो रही थी। इस कार्यक्रम की तैयारियां पिछले दिनों से ही चल रही थीं। पिछले गुरुवार को ‘यूपी 100 UP’ एडीजी आदित्य मिश्रा की अध्यक्षता में बैठक के दौरान कार्यक्रम को सफल बनाने के निर्देश दिए गए थे।

यूपी 100 की ये हैं उपलब्धियां
उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में एक लाख से ज्यादा ग्रामीणों और शहरी लोगों को अपनी सेवा प्रदान कर प्रदेश के 22 करोड़ लोगों का विश्वास डॉयल 100 पर बना हुआ है। डॉयल 100 के पास 3200 गाड़ियां बेहद हाईटेक गाड़ियां उपलब्ध हैं, जो अपनी तत्काल सेवा में तैयार रहती हैं। आकस्मिक सेवाओं 101 और 108 के साथ यूपी-100 का एकीकृत है, ताकि समय रहते लोगों को सहायता दी जा सके। यूपी 100 ने एक साल के भीतर 47 लाख से अधिक सूचनाओं का निवारण किया है। इनमें 13 लाख विवादों में आवश्यक कार्रवाई, 3 लाख से अधित सड़क दुर्घटनाओं में मौके पर सहायता प्रदान कर सैकड़ों लोगों की जान बचायी गयी। जबकि अब तक 855 लोगों की आत्महत्या के प्रयास से भी इस सेवा ने बचायी। इस सेवा ने महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों की सेवा कर सुर्खियां भी बटोरी हैं। इनमें कुछ घटनाएं ऐसी हैं जिनमें परिवार से बिछड़े हुए कई लोगों को उनके परिवार से मिलाकर उनके चेहरे पर खुशियां पुलिसकर्मियों ने लौटायी। इतना ही नहीं इस सेवा ने परेशानी और मुसीबत में फंसे हुए बेजुबान असहाय पशुओं की सहायता कर उनकी जान बचाकर बचाने का भी नेक काम किया है।

सिस्टम कर रहा बहुत ही बेहतर काम
गौरतलब है कि सपा सरकार में मुख्यमंत्री रहे अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्टों में शुमार यूपी 100 UP लगातार उपलब्धियां हासिल कर रहा है। घटना की सूचना सूचना मिलते ही यूपी 100 के कर्मचारी फ़ौरन मौके पर पहुंच जाते हैं। सपा सरकार ने यूपी में पहले से चल रही डॉयल 100 सेवा का नाम बदलकर यूपी 100 UP कर दिया था। सीएम अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में लोकभवन स्थित ऑडिटोरियम में इस सेवा के लोगो और यूपी 100 इमरजेंसी सर्विसेज ऐप को लॉन्च किया था। इस दौरान उन्होंने लोगों के संदेश और ऐप की खूबियों के बारे में बताया गया। अखिलेश ने कहा था कि इस सिस्टम को ऐसे तैयार किया गया है कि अधिकारी चाहे कैसा भी हो सिस्टम बेहतर चलेगा। अच्छे या खराब अधिकारी की तैनाती से इसे कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

बेहतर काम करने वाले नागरिक और पुलिसकर्मी सम्मानित
यूपी पुलिस आपातकालीन प्रबंधक प्रणाली का एक साल पूरा होने पर पुलिस ने शहीद पथ स्थित मुख्यालय में जश्न मनाया। इस दौरान पूरी बिल्डिंग को दुल्हन की तरह सजाया गया था। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में एडीजी कानून एवं व्यवस्था आनंद कुमार मौजूद रहे। उन्होंने डॉयल 100 का भ्रमण कर पुलिसकर्मियों की सराहना की। एडीजी ने पुलिसकर्मियों की हौसला अफजाई भी की। इस दौरान एडीजी यूपी 100 आदित्य मिश्रा ने डॉयल 100 की कार्यप्रणाली पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि एक साल के भीतर पुलिसकर्मियों ने इस आपातकालीन सेवा में 47,25,034 घटनाओं में मदद की है। एक साल पूरा होने पर यूपी 100 के कर्मचारियों ने मीडियाकर्मियों को भी भ्रमण करवाकर पूरे सिस्टम को समझाया। एडीजी आनंद कुमार ने इस कार्यक्रम में बेहतर काम करने और पुलिसकर्मियों और पुलिस की मदद करने वाले नागरिकों को भी सम्मानित किया। कार्यक्रम के दौरान भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।

बेहद हाईटेक है डायल-100, हर दम 8 हजार स्थानों पर उपलब्ध
“राज्‍य व्‍यापी पुलिस आपातकालीन प्र‍बंधन प्रणाली” यानि ‘यूपी 100 UP’ ने पूरे उत्तर प्रदेश में एक अलग छाप छोड़ी है। यह आपातकालीन पुलिस सेवा “शहर हो या देहात, ‘यूपी 100 UP’ आप के साथ” स्लोगन के साथ कार्य कर रही है। डॉयल 100 केवल फोन से नहीं बल्कि ई-मेल और ट्विटर के जरिये सोशल मीडिया के माध्यम से भी तुरंत सहायता प्रदान करती है। डॉयल 100 हजारों लोगों की जान बचा चुकी है। ये आपातकालीन सेवा घटना की सूचना मिलते ही 10 से 15 मिनट के भीतर घटना स्थल पर पहुंचकर तत्काल कार्रवाई करती है। डायल 100 हर समय पूरे प्रदेश में करीब 8 हजार पॉइन्स पर मौजूद रहती है और इससे कहीं ज्यादा घटनाओं को रोजाना कवर करती है ।