केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा- ‘दिल्ली अग्निकांड पर आप सरकार है जिम्मेदार’

नयी दिल्ली। केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दिल्ली के अनाज मंडी इलाके में आग की घटना में 43 लोगों की मौत पर आप सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि यह दुर्घटना दिखाती है कि “सजा के बिना” खामियां होते रहने दी गईं। पुरी ने एक बयान में कहा कि सड़कें बहुत संकीर्ण थीं और तार और केबल खतरनाक ढंग से लटकी हुई थीं। उन्होंने कहा कि साथ ही इमारत में सुरक्षा एवं आग से बचाव संबंधी नियमों का उल्लंघन किया गया था। आप सरकार ने पुरी के बयान को “चौंकाने वाला और गलत” करार देते हुए कहा कि केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री के बयान का उद्देश्य दिल्ली में भाजपा नीत नगर निकायों के “भ्रष्टाचार एवं अक्षमता’’ को छिपाना है।

आवास और शहरी कार्य मंत्रालय ने बयान में कहा, “दिल्ली अग्निशमन सेवाओं ने स्पष्ट तौर पर डीएफएस कानून 2010 की धारा 25, 27 और 44 को नजरअंदाज किया जिसके मुताबिक इस ऊंचाई एवं रिहायश के स्तर वाली इमारत को अग्नि सुरक्षा और आग से बचाव के उपाय करने होते हैं। लेकिन दिल्ली अग्निशमन सेवा विभाग ने इस तरह का कोई कदम नहीं उठाया।” पुरी ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए और कहा, “आज सुबह लगी विनाशकारी आग बताती है कि दंडाभाव में खामियां होती रहीं। ऐसा नहीं है कि समस्या पता नहीं थी। वे खुली आंख से नजर आ रहीं थीं और स्थानीय लोगों एवं प्रत्यक्षदर्शियों ने साफ तौर पर इसकी पुष्टि की है।” उन्होंने पूछा, “हर जागरुक और दिल्ली का जिम्मेदार नागरिक यह जानना चाहता है कि इन जांचों की रिपोर्ट पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने क्या कार्रवाई की। क्या इन रिपोर्टों को सार्वजनिक किया गया? क्या अब स्थिति बेहतर है?” आगामी विधानसभा चुनाव के लिए दिल्ली भाजपा के सह प्रभारी, पुरी ने कहा कि दिल्ली का मास्टर प्लान 2021 नगर निगमों के लिए विशेष इलाकों की पुनर्विकास योजना तैयार करने को जरूरी बनाता है।

पुरी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “दिल्ली सरकार के शहरी विकास विभाग को अप्रैल 2017 में आधिकारिक गजट में अधिसूचना जारी करने के लिए इसे भेजा गया था। लेकिन समय समय पर सभी स्पष्टीकरण देने के बावजूद इसकी अधिसूचना लंबित है। ये विभाग किस चीज का इंतजार कर रहे थे? आज दिल्ली को जवाब चाहिए।” उन्होंने ट्वीट किया, “अर्पित पैलेस होटल, बवाना औद्योगिक क्षेत्र, कालिंदी कुंज, चांदनी चौक, नेताजी सुभाष प्लेस जैसे कई नाम हैं जहां विनाशकारी आग लगी है। हर बार बस जांच के आदेश दे दिए जाते हैं। यहां तक कि आज भी जांच के आदेश दिए गए हैं।” पुरी पर पलटवार करते हुए आप सरकार ने इन दावों को “झूठा और चौंकाने वाला” करार देते हुए एक बयान जारी किया। बयान में कहा गया कि मंत्रालय इस मामले में अप्रासंगिक नियमों का हवाला दे रहा है।