वाराणसी : PM मोदी के खिलाफ ताल ठोकने वाले सपा प्रत्याशी बर्खास्त BSF जवान तेजबहादुर यादव का नामांकन हो सकता है खारिज !

वाराणसी । देशभर की सुर्खियों में बने हुए बर्खास्त बीएसएफ जवान तेजबहादुर यादव का नामांकन वाराणसी से खारिज हो सकता है । हालांकि अभी इसकी पुष्टि नही हुई है लेकिन सूत्रों का यही कहना है । पहले निर्दलीय और बाद में सपा के टिकट पर नामांकन दाखिल करने वाले तेज बहादुर यादव का पर्चा चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया. हालांकि इस बात की पुष्‍टि अभी चुनाव आयोग ने नहीं की लेकिन बीबीसी की एक रिपोर्ट में इसका जिक्र है. वहीं सूत्र इस बात की पुष्‍टि कर रहे हैं कि तेज बहादुर यादव का पर्चा खारिज हाे गया है. बता दें सरकारी नौकरी से बर्खास्त किए गए लोगों को चुनाव लड़ने से पहले चुनाव आयोग से अनुमति लेना जरूरी होता है. तेज बहादुर यादव ने अनुमति लिया था या नहीं अभी इस पर भी संशय है.

शनिवार को बीएसएफ से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव ने पहले निर्दलीय फिर सपा के चुनाव चिन्ह पर नामांकन किया था. इसमें एक में बताया था कि उन्हें भ्रष्टाचार के कारण सेना से बर्खास्त किया गया था लेकिन दूसरे नामांकन में उन्होंने इसकी जानकारी नहीं दी थी. मंगलवार को पर्चों की जांच के बाद जिला निर्वाचन कार्यालय ने तेज बहादुर को नोटिस जारी करते हुए 1 मई तक जवाब देने का समय दिया. चुनाव आयोग ने कहा था कि अगर तेज बहादुर यादव प्रमाण नहीं देते हैं तो उनका नामांकन खारिज कर दिया जाएगा.

आयोग की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक, तेज बहादुर ने 24 अप्रैल को निर्दल प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया था. उस समय उन्होंने अपने शपथ पत्र में बताया था कि ‘हां’ उन्हें भ्रष्टाचार के कारण नौकरी से बर्खास्त किया गया था, लेकिन 29 अप्रैल को दूसरी बार नामांकन करते समय तेज बहादुर ने इसी कॉलम में ‘नहीं’ लिखा है, जिसका अर्थ ये है कि उन्हें भ्रष्टाचार की वजह से नौकरी से नहीं निकला गया है.

बता दें कि 2017 में बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव ने एक वीडियो जारी किया था, जिसमें उन्होंने जवानों को मिलने वाले भोजन की क्वालिटी को लेकर शिकायत की थी. उस विवाद के बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था. तभी से वह केंद्र सरकार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं. बीते दिनों ही तेज बहादुर यादव ने ऐलान किया था कि वह भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चुनाव लड़ रहे हैं.