बुलंदशहर यूथ कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को भेंट की बचपन की पोट्रेट

बुलंदशहर । जिले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के आगमन पर युवा कांग्रेस ने अनूपशहर में भव्य स्वागत किया । प्रदेश अध्यक्ष ओमवीर यादव और जिलाध्यक्ष जियाउर्रहमान एडवोकेट के नेतृत्व में हजारों युवा कार्यकर्ताओं प्रियंका गांधी का अभिनंदन किया । युवा कांग्रेस ने ‘प्रियंका गांधी संघर्ष करो – यूपी आपके साथ है’ जैसे गगनचुंभी नारे लगाए । जिले के युवाओं की ओर से प्रदेश अध्यक्ष ओमवीर यादव और जिलाध्यक्ष जियाउर्रहमान एडवोकेट ने प्रियंका गांधी को उनके बचपन का पूर्व…

Read More

AP के विशाखापट्टनम में गैस लीक, 11 की मौत, सीएम ने किया 1 करोड़ की मदद का ऐलान

विशाखापट्टनम | आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम के आर.आर. वेंकटपुरम गांव में एक प्लांट से कैमिकल गैस के लीक होने के बाद गुरुवार को कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई है।मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने इस घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को 1 करोड़ रुपये की सहायति राशि देने का ऐलान किया है। गैस कांड के चलते जिन लोगों का वेंटिलेटर पर इलाज चल रहा है उन सभी लोगों को 10 लाख रुपये दिए जाएंगे।…

Read More

नेपोलियन बोनापार्ट का गहना था जोखिम उठाना, कभी हताश और निराश नहीं होते थे

नेपोलियन बोनापार्ट जीवन भर जोखिम भरे काम करते रहे। एक बार उन्होंने आलपास पर्वत को पार करने का ऐलान किया और फिर अपनी सेना के साथ पर्वत को पार करने के लिए चल पड़े। जब वह निकले तो सामने एक विशाल और गगनचुम्बी पहाड़ खड़ा था, जिस पर चढ़ाई करना असंभव प्रतीत हो रहा था। नेपोलियन की सेना में अचानक हलचल शुरू हो गई। सभी को पहाड़ पर चढ़ने में डर लग रहा था लेकिन नेपोलियन से अपनी सेना…

Read More

हँसना जरूरी है, ईटिंग मनी, नो पापा……….!

सरकार बहुत शाणी है. पब्लिक उससे ज्यादा शाणी है और बिज़नेसमैन परम शाणे हैं. सरकार ने ज्यादातर बिज़नेस चलाना बंद कर दिया पर बिज़नेसमैन लोगों ने सरकार चलाना बंद नहीं किया.सरकार ने बिज़नेस करना छोड़ दिया बहुत पहले कि सचमुच के बिज़नेसमैन लोगों से कंपटीशन में टिक नहीं पाती थी. सरकार बहुत पहले ब्रेड बनाती थी-माडर्न ब्रेड.प्राइवेट सेक्टर के बिज़नेसवाले- ब्रेड वाले सरकार को हरा देते थे. सरकार ने ब्रेड बनाना बंद कर दिया. एक जमाने में सरकार मारुति…

Read More

विश्व युवा दिवस विशेष : ‘धर्मो के रास्ते अलग, ध्येय किंतु एक’ – स्वामी विवेकानंद

‘उठो, जागो और तब तक रुको नहीं, जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए’, ‘यह जीवन अल्पकालीन है, संसार की विलासिता क्षणिक है, लेकिन जो दूसरों के लिए जीते हैं, वे वास्तव में जीते हैं।’ गुलाम भारत में ये बातें स्वामी विवेकानंद ने अपने प्रवचनों में कही थी। उनकी इन बातों पर देश के लाखों युवा फिदा हो गए थे। बाद में तो स्वामी की बातों का अमेरिका तक कायल हो गया। 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता (अब कोलकाता)…

Read More