उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष बने स्वतंत्र देव सिंह, कार्यकर्ताओं में ख़ुशी की लहर

नई दिल्ली | भारतीय जनता पार्टी ने योगी आदित्यनाथ सरकार के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को उत्तर प्रदेश भाजपा का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है। महेंद्रनाथ पाण्डेय के नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा उत्तर प्रदेश को नया अध्यक्ष मिलेगा। अमित शाह के स्थान पर जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेदारी देने के बाद भाजपा ने अब अपने प्रादेशिक संगठन में भी बदलाव शुरू कर दिया है।

योगी आदित्यनाथ सरकार में परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी की उत्तर प्रदेश राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया है। मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी की तरफ से यह घोषणा की गई है। पार्टी ने स्वतंत्र देव सिंह को उत्तर प्रदेश की कमान सौंपी है। स्वतंत्र देव सिंह से पहले महेंद्र नाथ पांडे उत्तर प्रदेश में भाजपा के अध्यक्ष थे। स्वतंत्र देव सिंह को यूपी के कुर्मी नेताओं में प्रमुख माना जाता है और उन्हें संगठन स्तर पर काम करने का अच्छा अनुभव भी है।

स्वतंत्र देव सिंह यूपी सरकार में फिलहाल परिवहन, प्रोटोकॉल, ऊर्जा विभागों की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। यूपी के मिर्जापुर के मूल निवासी स्वतंत्र देव सिंह को अध्यक्ष बनाकर एक बार फिर पार्टी ने पूर्वांचल को साधने की दिशा में फैसला किया है। इससे पहले महेंद्र नाथ पांडेय भी पूर्वांचल के हिस्से से ही प्रदेश अध्यक्ष बनाए जा चुके हैं। महेंद्र नाथ पांडे अब केंद्र में मंत्री बन चुके हैं और भाजपा की एक व्यक्ति एक पद की नीति के तहत उनकी जगह स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। अभी भी स्वतंत्र देव सिंह उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं। उत्तर प्रदेश के साथ ही भाजपा ने महाराष्ट्र और मुंबई में भी अध्यक्ष को बदला है।

स्वतंत्र देव सिंह ओबीसी समुदाय से आते हैं और संघ के आंगन में पले बढ़े हैं। उन्होंने कार्यकर्ता से लेकर संगठनकर्ता तक का सफर तय किया है। स्वतंत्र देव सिंह का जन्म 13 फरवरी 1964 को मिर्जापुर में हुआ है। स्वतंत्र देव ने जालौन को कर्मभूमि बनाई और उनकी शादी झांसी में हुई। जब पुलिस में तैनात उनके भाई का तबादला हुआ तो उन्हीं के साथ 1984 में वे जालौन आ गए। 1985 में ग्रेजुएशन में दाखिला लिया। स्वतंत्र देव सिंह बेहद गरीबी में पले-बढ़े हैं। एक दौर में स्वतंत्र देव सिंह पत्रकारिता करते थे। मिर्जापुर में जन्में स्वतंत्र देव सिंह ने अपनी कर्मभूमि बुंदेलखंड के जालौन को बनाई। शुरुआत में वह आरएसएस से जुड़े और फिर भाजपा के जरिए सक्रिय राजनीति में उतर आए। छात्र राजनीति में भी वह लगातार सक्रिय रहे और कई मुकाम हासिल किया।