असिस्टेंट प्रोफेसर के घर दिनदहाड़े लाखों की चोरी

अलीगढ़। थाना महुआखेड़ा क्षेत्र की पॉश व बंद कॉलोनी ओजोन सिटी में चोरों ने एसवी कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर के मकान को निशाना बना डाला। चोरों ने दिनदहाड़े मकान के ताले तोड़कर वहां से लाखों रुपये की नकदी व सोने-चांदी के जेवरात चोरी कर लिए। घटना के वक्त प्रोफेसर कॉलेज में व पत्नी पार्क में बच्ची को घुमाने गई थीं।

बतादें कि मूल रूप से बुलंदशहर के जहांगीरपुर निवासी गौरव कुमार एसवी डिग्री कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। वे पिछले सात माह से थाना महुआखेड़ा क्षेत्र की ओजोन सिटी कॉलोनी में किराये के मकान में रहते हैं। कॉलोनी में ही उन्होंने 200 वर्ग गज का प्लॉट ले रखा है। जिस पर सोमवार से ही निर्माण कार्य शुरू हुआ है। मंगलवार को असिस्टेंट प्रोफेसर गौरव कुमार कॉलेज चले गए। दोपहर करीब 12 बजे पत्नी नीलम मकान में ताला लगाकर ढाई साल की बेटी कृषिका को कॉलोनी के पार्क में घुमाने ले गईं। करीब दो घंटे बाद जब नीलम वापस घर पहुंची तो मकान के मेन गेट के अलावा कमरे व सेफ के ताले टूटे मिले। सामान भी अस्त-व्यस्त था। यह देख उनके होश उड़ गए। उन्होंने शोर मचाने के साथ ही पति को मोबाइल फोन पर वारदात की सूचना दे दी।

असिस्टेंट प्रोफेसर के अनुसार चोर ताले तोड़कर सेफ में मकान निर्माण के लिए रखे 8.69 लाख रुपये की नकदी, सोने की चूड़ियां, हार, जंजीर, अंगूठी, कान के झुमके, कुंडल आदि के अलावा चांदी की पाजेब आदि समेत करीब पांच लाख के जेवरात चोरी कर ले गए हैं। चोरी की सूचना पर पुलिस टीम ने पहुंचकर जांच -पड़ताल कर चोरों की तलाश शुरू कर दी है।

ओजोन सिटी परिसर की सुरक्षा व्यवस्था निजी सिक्योरिटी गार्डों के हवाले है। सीसीटीवी से भी निगरानी रखी जाती है। बिना जांच पड़ताल किसी को आने-जाने की अनुमति नहीं है। इसके बावजूद चोर आसानी से प्रवेश कर वारदात को अंजाम देकर व माल समेट कर भाग गए। इस वारदात ने कॉलोनी में रहने वाले लोगों के होश उड़ा दिए हैं। सुरक्षा व्यवस्था व चोरी की घटना को लेकर शाम को कॉलोनी की सोसायटी कमेटी की एक बैठक भी हुई।

चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले चोर बेहद शातिर थे। यहां लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में कहीं भी कैद नहीं हुए हैं। हालांकि पुलिस आस-पास लगे कैमरों की फुटेज अभी खंगालने में जुटी हुई है। महुआखेड़ा थाने के प्रभारी निरीक्षक सुनील कुमार ने बताया कि मामले में जांच की जा रही है। सीसीटीवी की मदद से चोरों को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है। जो तहरीर मिली है। उसके अनुसार मुकदमा दर्ज किया जाएगा।