फैले हुई भारतीय रेल, छठ पर ट्रेनों के लेट होने से गुस्से में आये यात्री

छठ पर यात्रियों को ट्रेनों में जगह दिलाने का दावा तो फेल हुआ ही ट्रेनें समय से नहीं चल पाईं। शुक्रवार को स्पेशल ट्रेनों के विलंब से चलने पर यात्री गुस्से में नजर आए। रेलवे स्टेशन पर दिन भर ट्रेनों के इंतजार में लोग भटकते दिखे। रेल प्रबंधन ने दिवाली और छठ के मद्देनजर बारह जोड़ी स्पेशल ट्रेनों का ऐलान किया था। सभी स्पेशल ट्रेन देर से चलीं। जबकि जयनगर से अमृतसर के बीच चलने वाली शहीद एक्सप्रेस दस घंटे से अधिक देर से मुरादाबाद पहुंची। दरभंगा से दिल्ली के बीच में चलने वाली स्पेशल ट्रेने चार घंटे, आनंद विहार से कटिहार के बीच चलने वाली स्पेशल ट्रेन पौने घंटे, डिब्रूगढ़ से नई दिल के बीच चलने वाली स्पेशल ट्रेन 6:30 घंटे, लखनऊ से आनंद विहार के बीच चलने वाली डबल डेकर डेढ़ घंटे देर से आई।

वाराणसी से नई दिल्ली के बीच चलने वाली काशी एक्सप्रेस 2 घंटे देर से आई। मुजपुफरपुर से चलने वाली सुपर फास्ट संपर्क क्रांति पांच घंटे विलंब से मुरादाबाद पहुंची। मुरादाबाद से दिल्ली जाने वालों को इस ट्रेन में जगह नहीं मिल पाई। सुबह इस वजह से स्टेशन पर हंगामा हो गया। उधर, रूटीन की ट्रेनों में गरीब रथ, पंजाब मेल, सियालदह, अवध-असम, पुरबिया, उत्तरांचल संपर्क क्रांति, दून, पंजाब मेल, जनता एक्सप्रेस, सत्याग्रह में सीट पाने को लेकर दिनभर हंगामा होता रहा। बिहार और बंगाल की ओर जाने वाली ट्रेनों का और बुरा हाल दिखा। सड़क मार्ग की भीड़ ने संडीला और उचौलिया स्टेशन के बीच रेल संचालन प्रभावित कर दिया। सेक्शन के 249-सी नंबर गेट पर कई बार वाहनों का रेला रहा। सुबह 10:30 बजे दोपहर, 1:30 बजे और फिर 2:45 बजे सड़क मार्ग पर वाहनों के दबाव में ट्रेनों को रोकना पड़ा। दो गुड्स और चार एक्सप्रेस ट्रेनें गेट खुला होने की वजह से रोकनी पड़ीं। सभी ट्रेनें 10 मिनट से 30 मिनट तक खड़ी रहीं।

कोच की खराबी से रुकी रही जननायक
शुक्रवार को कोच की खराबी से जननायक एक्सप्रेस पौने 3 घंटे तक देहरादून में खड़ी रही। सुबह के 5:45 बजे ट्रेन का स्लीपर कोच जाम हो गया। चालक ने गाड़ी रोक दी और टीएक्सआर की मदद मांगी। ट्रेन के रुकने से यात्रियों ने कई बार हंगामा किया।

पुरबिया एक्सप्रेस में चेन पुलिंग
शुक्रवार को पुरबिया एक्सप्रेस पीतांबरपुर स्टेशन के पास रोक दी गई। सुबह के 7:30 बजे ब्लॉक सेक्शन में अचानक गाड़ी खाली हो गई। दस मिनट विलंब से ट्रेन रवाना किया गया। मुरादाबाद में ट्रेन पहुंचने के साथ चालक ने स्टेशन मास्टर को मेमो दिया उसके बाद ट्रेन आगे बढ़ाई।

रन ओवर की वजह से रुकी ट्रेनें
शुक्रवार को हादसों की वजह से तीन स्टेशनों पर ट्रेनों का संचालन प्रभावित हुआ। हर्रावाला और देहरादून स्टेशन के बीच शताब्दी एक्सप्रेस की चपेट में अधेड़ आ गया। जिसकी वजह से लिंक एक्सप्रेस 25 मिनट रुकी रही। जबकि कौड़ा स्टेशन के पास सियालदह हादसा की वजह से रुकी रही। बेगमपुर एक्सप्रेस से पंडित राम प्रसाद बिस्मिल स्टेशन पर अधेड़ की जान चली गई। इस वजह से लांग हाल को रोकना पड़ा।

पानी भरने के लिए रोकी गई मिलिट्री स्पेशल
शुक्रवार को मुरादाबाद स्टेशन पर देर तक मिलिट्री स्पेशल रुकने से अफसर सकपका गए। सुबह के 11:30 बजे लखनऊ की ओर से ट्रेन आई। जिसे गाजियाबाद जाना था। सूत्रों का कहना है कि पानी भरने के लिए ट्रेन रोकी गई। जबकि कुछ कोच में चार्जिंग की समस्या आ गई थी। एसएस ने बताया कि दो घंटे बाद ट्रेन गाजियाबाद को रवाना कर दी गई।