प्रेमिका के इश्क़ में सैनिक ने पत्नी को उतारा मौत के घाट

रांची | दीपाटोली आर्मी कैंट में तैनात जवान देशपाल अठावले ने अपनी पत्नी मनीषा अठावले की हत्या अवैध संबंध का विरोध करने के कारण कर दी। यह आरोप मृतका के बड़े भाई शरद ने लगाया है। दूरभाष पर हुई बातचीत में शरद ने अपने जीजा देशपाल अठावले पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि उसके जीजा का चाल-चलन ठीक नहीं था। दूसरी युवती से उसका अवैध संबंध था। इस बात की जानकारी जब मनीषा को मिली तो उसने इसका विरोध किया। इस बात को लेकर दोनों के बीच झगड़े होते थे।

मनीषा ने कुछ दिन पहले युवती को देशपाल के संपर्क में रहने से मना किया था। लेकिन वह मानी नहीं, बल्कि मनीषा के घर ही पहुंच गई थी। मनीषा ने उसकी पिटाई भी की थी। इसके बाद कैंट से उसे हटा दिया गया था। आरोपी देशपाल को जब इसकी जानकारी मिली तो उसने मनीषा के साथ मारपीट की थी। इस दौरान जवान ने युवती से संबंध तोड़ने से इनकार कर दिया था। तब मनीषा ने मायके वालों को मामले की जानकारी दी। घरवालों ने देशपाल को काफी समझाया, लेकिन वह नहीं माना।

शरद ने बताया कि घटना वाली रात एक अगस्त को जवान के मोबाइल पर किसी का फोन आया था। इसके बाद मनीषा और देशपाल के बीच झगड़े हुए थे। उन्होंने बताया कि मनीषा की बेटी ने यह बात उन्हें बतायी है। शरद ने बताया कि मनीषा के क्रियाकर्म के बाद वे रांची आएंगे और पुलिस को इस बात की जानकारी देंगे।

शरद ने बताया कि आरोपी जवान देशपाल का महाराष्ट्र के अमरावती में भी एक युवती के साथ अवैध संबंध था। इसको लेकर तीन साल पहले झगड़े भी हुए थे। उन लोगों ने देशपाल को काफी समझाया-बुझाया भी था। इसके बाद मामला शांत हुआ था। शरद ने बताया कि मनीषा उनकी इकलौती बहन थी। चार भाइयों के बीच एक बहन थी। घर की सबसे लाडली थी। उसने कभी भी भाइयों से कुछ नहीं मांगा था। इसलिए सभी उसे प्यार करते थे।

एक अगस्त की देर रात दीपाटोली आर्मी कैंट के जवान देशपाल अठावले ने अपनी पत्नी मनीषा से झगड़ा के बाद गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी थी। बाद में चाकू से जख्म भी दिए थे। बेरहमी से पत्नी को लात-घूसों से मारा भी था। इसके बाद शव को बेड के नीचे डालकर सुबह के समय फरार हो गया था। जाते-जाते बच्चों से उसने कहा था कि बेटा सुबह दस बजे तक घटना के बारे में किसी को नहीं बताना, वरना पापा को जेल हो जाएगा। हत्या का आरोपित जवान देशपाल अठावले महार-8 रेजिमेंट में पदस्थापित है। इधर, घटना के तीन दिन बाद भी आरोपी जवान पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।