योगी सरकार में नही मिली अयोध्या में शिवसेना को सभा की अनुमति, उद्धव का नारा- ‘हर हिंदू की यही पुकार – पहले मंदिर फिर सरकार’

लखनऊ | अयोध्या में राममंदिर निर्माण के मुद्दे पर सियासी पारा चढ़ने लगा है। साथ ही अयोध्या की धर्मसभा को लेकर यूपी सरकार के सामने शांति व्यवस्था के लिहाज से चुनौती भी बढ़ गई है। इस बीच सतर्कता बरतते हुए सरकार ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को अयोध्या के रामकथा पार्क में सभा करने की अनुमति नहीं दी है। प्रदेश सरकार के सामने अयोध्या में भीड़ को नियंत्रित करने व विवादित स्थल के नजदीक न जाने देने की भारी चुनौती है। विहिप का दावा है कि लाखों लोग इस आयोजन में शिरकत करेंगे। इस बीच शिवसेना की सक्रियता भी बढ़ रही है। ऐसे में यूपी सरकार भी खासी सावधानी बरत रही है। सूत्र बताते हैं कि शिवसेना की सभा में उत्तेजकबयानी से इससे माहौल बिगड़ने का खतरा था। इसलिए सरकार नहीं चाहती कि वह सभा जैसा कोई आयोजन करे।

शिवनेरी किले की मिट्टी ला रहे हैं ठाकरे –
इस बीच, शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे पुणे के शिवनेरी किले की मिट्टी एक कलश में भर कर शनिवार को अयोध्या पहुंचेगे। यह मिट्टी राम जन्मभूमि के महंत को दी जाएगी। पुणे के जुन्नार तहसील में स्थित यह किला मराठा राज के छत्रपति शिवाजी महाराज की जन्मस्थली है। श्री ठाकरे दो दिन के दौरे पर शनिवार को अयोध्या पहुंचेगे। वह लक्ष्मण किला में आयोजित संतों के सम्मान समारोह में हिस्सा लेंगे। उसी रोज शाम को सरयू आरती में शामिल होंगे। अगले रोज 25 को वह रामलला के दर्शन करेंगे। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का कहना है कि जब तक राम मंदिर नहीं बनेगा, सरकार भी नहीं बनेगी। उन्होंने हर हिंदू की यही पुकार पहले मंदिर फिर सरकार, का नारा भी दिया है।