एनसीबी से हटाए गए समीर वानखेड़े, नहीं मिल सका एक्सटेंशन

मुंबई। एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, विभाग में बने रहने के लिए उन्हें आगे एक्सटेंशन नहीं मिला है जिसके बाद एनसीबी से उनकी विदाई हो गई है। बता दें कि समीर वानखेड़े आईआरएस अफसर हैं जो मुंबई के ड्रग्स केसों की जांच के चलते चर्चा में आए थे। फिर वह आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद से लगातार सुर्खियों में रहे। इससे पहले कयास लगाया जा रहा था कि केंद्र सरकार उन्हें फिर से एक्सटेंशन दे सकती है लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

बता दें कि समीर वानखेड़े वहीं अधिकारी हैं जिन्होंने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के खिलाफ ड्रग्स की साजिश की जांच की थी। भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी वानखेड़े का एक बॉलीवुड से खास कनेक्शन भी है। वानखेड़े ने मराठी अभिनेत्री क्रांति रेडकर से शादी की है। क्रांति रेडकर ने साल 2003 में फिल्म गंगाजल में अभिनेता अजय देवगन के साथ काम किया था। वानखेड़े साल 2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं और उन्होंने मार्च 2017 में क्रांति से शादी की थी।

समीर वानखेड़े की पहली पोस्टिंग मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम ऑफिसर के तौर पर हुई थी। साल 2008 से साल 2020 तक वे एयर इंटेलिजेंस यूनिट (एआईयू के उपायुक्त, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अतिरिक्त एसपी, राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के संयुक्त आयुक्त और एनसीबी के जोनल निदेशक के पद पर रह चुके हैं। पिछले दो सालों में वानखेड़े ने अपनी टीम के साथ मिलकर एक जांच में 17,000 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त की है।

सीमा शुल्क विभाग में सेवा देते हुए समीर ने कथित तौर पर कई मशहूर हस्तियों को क्लीयरेंस नहीं दिया था। जब तक सेलेब्स ने विदेशी मुद्रा में खरीदे गए सामान का खुलासा और उस पर टैक्स पे नहीं किया तब तक वानखेड़े ने उनको कोई रियायत नहीं दी थी। इतना ही नहीं, उन्होंने टैक्स का भुगतान नहीं करने वाली दो हजार से ज्यादा फिल्मी हस्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। साल 2013 में वानखेड़े ने गायक मीका सिंह को मुंबई एयरपोर्ट पर विदेशी मुद्रा के साथ था।

इसके अलावा अनुराग कश्यप, विवेक ओबेरॉय और रामगोपाल वर्मा सहित कई बॉलीवुड सेलेब्स के स्वामित्व वाली संपत्तियों पर भी छापेमारी की थी। साल 2011 में सोने से बनी क्रिकेट विश्व कप ट्रॉफी को भी कस्टम ड्यूटी का देने के बाद ही मुंबई हवाई अड्डे से जाने दिया था। वानखेड़े अपनी सर्विस को लेकर हमेशा सक्रिय रहते हैं और किसी को भी बिना जांच जाने नहीं देते।