BJP के इशारे पर प्रशासन ने की लोकतंत्र की हत्या, RLD से डरी योगी सरकार : डॉ मसूद अहमद

लखनऊ । इगलास विधानसभा से रालोद प्रत्याशी सुमन दिवाकर को समय से पहुंचने के बावजूद बी फार्म न लेने और प्रशासन द्वारा प्रस्तावकों को रोकने पर रालोद ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है ।

रालोद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ मसूद अहमद ने कहा है कि रालोद से डरकर भाजपा सत्ता का दुरुपयोग कर नामांकन निरस्त करने की साजिश रच रही है ।  उन्होंने कहा कि ठीक 2:32 दोपहर बजे सुमन दिवाकर नामांकन कक्ष में दाखिल हो गयी थी लेकिन रिटर्निंग ऑफिसर ने उन्हें बाहर निकाल दिया, वो फिर 2:54 बजे दाखिल हो गयी । उनके प्रस्तावकों को नामांकन कक्ष के बाहर साजिशन रोक दिया । उन्होंने कहा कि बी फार्म जानबूझकर नही लिया गया । उन्होंने कहा कि रालोद से डरकर  भाजपा साजिश रच रही है, लोकतंत्र की हत्या करने पर उतारू है । उन्होंने कहा कि जिस तरह पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने से सेना के जवान तेजबहादुर को रोका गया था, उसी तरह सुमन दिवाकर को रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि पर्यवेक्षक और चुनाव आयोग से शिकायत की है । प्रशासन के खिलाफ आयोग से लेकर कोर्ट तक जाएंगे । 

रालोद की प्रत्याशी सुमन दिवाकर ने कहा कि प्रशासन जानबूझकर सत्ता के इशारे पर मेरा नामांकन खारिज करने की साजिश रच रहा है । उन्होंने कहा कि  थैले से निकालकर निर्वाचन अधिकारी को मेरे द्वारा  बी फार्म और जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर उन्होंने जानबूझकर नही लिए जबकि 2:34 बजे ही नामांकन कक्ष में  दाखिल हो गयी थी । उन्होंने कहा कि मुझे संदेह है कि मेरे नामांकन करते समय कक्ष का सीसीटीवी और वीडियोग्राफी बन्द करा दी गयी थी । उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन आरएसएस और भाजपा के इशारे पर एजेंट बनकर कार्य कर रहा है । उन्होंने कहा कि रालोद से डरकर, किसानो और गरीबों की ताकत से डरकर योगी सरकार ने रालोद के विरुद्ध षड्यंत्र रचा है । उन्होंने कहा कि मंगलवार को यदि बी फार्म जमा नही किया तो कलेक्ट्रेट में धरना दूंगी । उन्होंने यह भी आरोप लगाया है  कि डीएम और रिटर्निंग ऑफिसर भाजपा को चुनाव जिताने के लिए भाजपा के एजेंट के रूप मे काम कर रहे हैं ।