अलीगढ जहरीली शराब कांड का आरोपी RLD नेता पुलिस रिमांड पर, खुलेंगे कई राज, नेताओं में हड़कंप

अलीगढ | बड़ी खबर अलीगढ से है | जहरीली शराब कांड के मुख्य आरोपियों में शामिल रालोद नेता अनिल चौधरी व सहयोगी ठेकेदार नरेंद्र को पुलिस ने तीन दिन के रिमांड पर ले लिया है। रिमांड मंजूर होने के बाद उन्हें पुलिस टीम पूछताछ के लिए ले गई है। इस दौरान प्रयास किया जा रहा है कि उनसे इस रैकेट से एक-एक राज उगलवाए जाएं। साथ में फरार साथियों के विषय में भी पता लगाया जा सके। माना जा रहा है कि रालोद के कई नेताओं के नाम अनिल चौधरी से पूछताछ के बाद सामने आ सकते हैं | रालोद में अनिल के गिरफ्तार होने के बाद अंदरूनी हड़कंप है |

एसएसपी कलानिधि नैथानी के अनुसार अनिल चौधरी व नरेंद्र का पुलिस कस्टडी रिमांड शनिवार को ही आवेदन कर उसे तीन दिन के लिए मंजूर करा लिया गया है। यह रिमांड रविवार से शुरू हुआ है और तीनों को पुलिस टीमें पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई हैं। एसपी देहात शुभम पटेल की अगुवाई में लगातार पूछताछ चल रही है। इनसे वो हर राज उगलवाने का प्रयास चल रहा है जो इस रैकेट के संबंध में है। उन्होंने बताया कि इस बीच अगर फरार सरगनाओं में से कोई पकड़ा गया तो इनका आमना-सामना कराकर भी तथ्यों को जोड़ा जाएगा।

एसएसपी के अनुसार इस प्रकरण में शनिवार शाम तक 10 शराब तस्कर गिरफ्तार किए थे, जबकि पांच को रविवार शाम तक दबोचा गया है। इस तरह अब तक कुल पंद्रह गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। टप्पल व पिसावा के मुकदमों के संबंध में शनिवार को पकड़े गए चारों आरोपियों को रविवार को जेल भेज दिया गया। वहीं फरार 50-50 हजार के इनामियों की तलाश में पुलिस टीमें लगातार दबिश दे रही हैं। एसएसपी के अनुसार रविवार को जो जेल भेजे गए हैं, उनमें विवेक सांरगपुर खुर्जा, सोनू व नीरज ताहरपर टप्पल, अजय चौधरी गौमत खैर शामिल हैं।

वहीं रविवार शाम तक करसुआ-पचपेड़ा व ककोला ठेके के मुख्य संचालक दिगपाल सहित पांच लोग दबोच लिए गए हैं। जिनसे देर रात तक पूछताछ चल रही थी। यह जानने का प्रयास किया जा रहा था कि अनिल चौधरी व नरेंद्र द्वारा जो बताया गया है, उसमें कितना सच है। साथ में अनिल व नरेंद्र से दिगपाल का सामना भी कराने की तैयारी थी। जो पकड़े गए हैं, उनमें दिगपाल के अलावा करसुआ का ठेकेदार गंगाराम, सहयोगी राजकुमार, दिलीप दुबे व अरुण शर्मा शामिल हैं।