25 को राम रहीम की पेशी, जिलों में धारा 144 लागू, शादियों की तारीखें बदली

25 अगस्त को राम रहीम की कोर्ट में पेशी और पंचकूला में हजारों डेरा समर्थकों का जुटना, इसका सबसे बड़ा साइड इफेक्ट देखने को मिला है। यकीं नहीं होता कि ऐसा हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक, हरियाणा में हालात बिगड़ने के डर से फतेहाबाद जिले में 25 और 26 अगस्त को होने वाली कई शादियों की तारीख बदल दी गई है। कई लोगों के यहां तो शादियों के कार्ड तक बंट चुके थे। फतेहाबाद के एक शख्स ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि उनके बेटे की शादी 25 अगस्त को तय थी। कार्ड बंट चुके थे। अचानक गुरमीत राम रहीम के केस की बात पता लगी तो हमने शादी 27 अगस्त तक बढ़ा दी, ताकि कोई दिक्कत न हो।
बता दें कि साध्वी के यौन शोषण मामले में डेरामुखी सिरसा बाबा गुरमीत सिंह राम रहीम पर 48 घंटे बाद 25 अगस्त को फैसला आएगा। लेकिन पुलिस हर हालात से निपटने को तैयार है। प्रदेश में 16 हजार पुलिस मुलाजिम तैनात किए गए हैं। 47 स्थानों को हाइपर सेंसिटिव घोषित किया है। पंजाब से सटी हरियाणा और हिमाचल सीमा को सील किया गया है। राज्य में 75 पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात की गई हैं। मालवा बेल्ट के 13 जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। जबकि मोगा में सात पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात की गई हैं।
इसके अलावा 11000 मुलाजिम व 50 कंपनियां पीएपी की लगाई गई हैं। 13 ड्रोन से नजर रखी जा रही है। मंगलवार को डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने कई इलाकों का दौरा किया। अस्पतालों को भी अलर्ट किया है। डीजीपी ने कहा माहौल बिगड़ने नहीं देंगे, गोलियां तक चला सकते हैं।
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, चंडीगड़ और यूपी पुलिस को अहम निर्देश जारी किए हैं। राज्यों सरकारों को सोशल साइट्स पर नजर रखने के लिए कहा गया है। गृह मंत्रालय ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि सोशल मीडिया पर कोई भी व्यक्ति डेरा प्रमुख के खिलाफ पोस्ट करता है या कमेंट करता है उस पर तुरंत कार्रवाई की जाए। हरियाणा सरकार ने सिरसा सहित संवेदनशील घोषित नौ जिलों के बड़े सरकारी भवन अस्थायी जेलों में तबदील कर दिए गए हैं।

सभी जिलों में धारा 144 लागू कर दी है। अब डेरा प्रेमियों के सभी नाम चर्चा घरों में लाठी, डंडा व हथियार प्रतिबंधित हैं। गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रामनिवास ने बताया कि केंद्र सरकार से 115 अर्ध सैनिक बलों की और कंपनियां मांगी हैं। राज्य में जितने भी होमगार्ड हैं उन्हें ड्यूटी पर बुलाया जा रहा है। जगह-जगह पर क्रेन, एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड की व्यवस्था की गई है