योगीराज: रक्षक बने भक्षक: टोल से 40 हज़ार उडाये, जमकर की तोड़फोड़

कानून के रक्षक ही अगर भक्षक बन जाएं तो आम जनता का कानून व्यवस्था से भरोसा उठना लाजमी है। उत्तर प्रदेश में बीजेपी की योगी आदित्य नाथ सरकार का शासन है। इस शासनकाल में रात के अंधेरे में कुछ पुलिसकर्मियों ने ही, ऐसी वारदात को अंजाम दिया है जिसके कोई बारे में कोई पुलिस वाला सोच भी नहीं सकता। राज्य के मथुरा इलाके में कुछ पुलिसकर्मियों कथित तौर पर एक टोल प्लाजा पर न सिर्फ तोड़फोड़ की बल्कि टोल द्वारा जमा किया गया पैसा भी लूट लिया। वारदात को आगरा-दिल्ली NH 2 पर बीते 22 और 23 अगस्त की रात, 11.45 बजे से 1 बजे के बीच अंजाम दिया गया। टोल प्रशासन ने इस मामले में 6 पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

टोल अधिकारियों ने स्टाफ के साथ मारपीट करने और लगभग 40 हजार रुपये लूटने के आरोप लगाए हैं। पुलिसकर्मियों की यह वारदात सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई है। पुलिसकर्मियों के इस करतूत को अंजाम देने की वजह जानकर भी आप हैरान रह जाएंगे। खबरों के मुताबिक टोल पर पहुंचे पुलिसकर्मियों की जीप से एक बैरिकेट टकरा गया था, जिसके बाद उन्होंने तोड़फोड़,मारपीट की और पैसे भी लूटे। टोल अधिकारियों के मुताबिक रात 11:30 बजे पुलिस जीप टोल पर दाखिल हुई। जीप 13वीं लेन से टोल पार करने लगी जो कि एक फास्ट लेन थी। क्योंकि जीप पर तेज वाहन (fast vehicle tag) का टैग नहीं था इसलिए रास्ता रोका गया।

इसी बात से गुस्साए जीप में मौजूद सर्किल ऑफिसर और पुलिसकर्मियों की टोलकर्मियों से तीखी बहस हो गई जिसके बाद पुलिसकर्मियों ने मारपीट शुरू कर दी। टोलकर्मियों ने पुलिस पर अन्य बैरिकेट तोड़ने के भी आरोप लगाए हैं जिसकी वजह से कई गाड़ियां बिना टोल चुकाए वहां से निकल गईं। वहीं इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक पुलिस ने सभी आरोपों से इंकार किया और दावा किया है कि टोलकर्मियों ने उनसे ज्यादा पैसे की मांग की थी और उनसे बदसुलूकी की थी। हालांकि सीसीटीवी फुटेज कुछ और ही कहानी बयां करती हैं, जिसमें पुलिसकर्मियों की करतूत कैमरे में साफ-साफ कैद हुई है।