राज्यपाल ने लगाया महिला पत्रकार के गाल पर हाथ, हुआ हंगामा

नई दिल्ली | एकतरफ मंगलवार को तमिलनाडु के 78 वर्षीय राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित अपने खिलाफ यौन दुराचरण की रिपोर्टों का पत्रकार वार्ता बुलाकर खंडन कर रहे थे, वहीं राजभवन में इसी पत्रकार वार्ता खत्म होने पर बिना इजाजत लिए एक मशहूर पत्रिका की वरिष्ठ महिला पत्रकार के गाल थपथपाना उन्हें महंगा पड़ गया। महिला पत्रकार ने इसे गलत हरकत बताते हुए ट्विटर पर अपना गुस्सा जाहिर किया। महिला पत्रकार ने लिखा, मैंने तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से पत्रकार वार्ता में एक सवाल पूछा। जवाब देने की बजाय वे बिना मुझसे पूछे मेरा गाल सहलाने लगे। उन्होंने आगे लिखा, मैंने कई बार मेरा चेहरा धोया, लेकिन ये निशान नहीं छूट रहा है। इतने उत्तेजित और नाराज हो गए थे आप राज्यपाल पुरोहित। ये आपके हिसाब से दादा जी जैसा काम हो सकता है, लेकिन मेरे लिए आप गलत हैं। महिला पत्रकार के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर राज्यपाल की जमकर बुराई की गई। राज्य के प्रमुख विपक्षी दल द्रमुक ने इसे एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के लिए अनुपयुक्त कार्य बताया है। द्रमुक सांसद कनिमोझी ने और कार्यवाहक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने ट्वीट के जरिए इसकी आलोचना की।

तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने मंगलवार को उन आरोपों को बकवास व आधारहीन बताया, जिसमें उनके खिलाफ केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से यौन दुराचार के आरोप में जांच कराए जाने का दावा किया गया था। राज्यपाल ने अरुप्पूकोट्टई के देवांगा ऑर्ट्स कॉलेज की असिस्टेंट प्रोफेसर निर्मला देवी से कभी मुलाकात होने से भी इनकार किया। निर्मला देवी को सोमवार को चार छात्राओं को अच्छे नंबरों व पैसे के बदले मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के शीर्ष अधिकारियों के साथ सेक्स करने का आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उधर, मंगलवार को तमिलनाडु के पुलिस महानिदेशक टीके राजेंद्रन ने निर्मला देवी के मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौंप दी है।