BHU: प्रोफेसर पद के लिए इंटरव्यू, शार्ट लिस्ट करने वाले ही बन गए दावेदार

बीएचयू के केमिस्ट्री डिपार्टमेंट में प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसर के चार पदों की चयन प्रक्रिया में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। विश्वविद्यालय की नियमावली को नजरअंदाज कर आवेदन पत्रों की स्क्रूटनी करने वाले फैकल्टी अफेयर्स कमेटी (एफएसी) के सदस्यों ने खुद को ही चयन के लिए शार्टलिस्ट कर लिया है।
जानकारी होने पर अन्य उम्मीदवारों ने इसकी शिकायत कुलपति से लेकर सभी संबंधित अधिकारियाें से की है। रसायन विज्ञान विभाग में आर्गेनिक केमिस्ट्री में एक, इनआर्गेनिक केमिस्ट्री में एक और फिजिकल केमिस्ट्री में चार पदों के लिए साक्षात्कार 19 सितंबर से शुरू हो रहे हैं।
पिछले रविवार को शार्ट लिस्टेड कैंडिडेट की सूची ऑनलाइन करते हुए इंटरव्यू लेटर जारी कर दिए गए। शार्ट लिस्टेड अभ्यर्थियों में एफएसी के चार सदस्य भी शामिल हैं। आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों का आरोप है कि आवेदन पत्रों को शार्ट लिस्ट करने में भेदभाव किया गया है।
एक ही रिसर्च ग्रुप के चार-पांच अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुला कर भेदभाव किया गया है। अभ्यर्थी चाहते हैं कि दूसरी कमेटी से आवेदन पत्रों की शार्ट लिस्टिंग कराने के बाद इंटरव्यू कराए जाएं।
गौरतलब है कि नियुक्तियों के संदर्भ में कुलसचिव कार्यालय से जारी एक पत्र के अनुसार किसी भी पद के लिए आवेदन करने वाला फैकल्टी अफेयर्स कमेटी (एफएसी) का सदस्य नहीं हो सकता है। 17 अगस्त, 2013 की एक्जीक्यूटिव काउंसिल की बैठक में इस आशय का पत्र रेज्योल्यूशन नंबर 141 पारित किया गया था। मामले में  डीन इंस्टीट्यूट आफ साइंस की  चेयरपर्सन प्रो. चंदना हालदार ने कहा कि मुझे इस बारे में कुछ भी बोलने से मना किया गया है। मैं कुछ भी नहीं कह सकती हूं। जानकारी के लिए आप जनसंपर्क अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं।
वहीं बीएचयू के प्रवक्ता  डॉ. राजेश सिंह ने कहा कि यूजीसी की दिशा निर्देशों के अनुरूप ही बीएचयू में चयन प्रक्रिया अपनाई जाती है। इस तरह की किसी भी गड़बड़ी का मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया है।

डॉ. इडा तिवारी, डॉ. पंकज श्रीवास्तव, डॉ. अरविंद मिश्रा, डॉ. राजेश कुमार

डॉ. इडा तिवारी (इनआर्गेनिक केमिस्ट्री),  डॉ. पंकज श्रीवास्तव (फिजिकल केमिस्ट्री) डॉ. अरविंद मिश्रा (आर्गेेनिक केमिस्ट्री) डॉ. राजेश कुमार (आर्गेेनिक केमिस्ट्री)