लखीमपुर कांड पर बोले जयंत चौधरी- ‘UP में लगे राष्ट्रपति शासन, पुलिस ने भाजपा की सदस्यता ले ली है’

लखनऊ | रालोद सुप्रीमो जयंत चौधरी ने योगी सरकार और पुलिस पर बड़े सवाल उठायें हैं | जयंत चौधरी ने कहा कि योगी सरकार लखीमपुर की घटना का सच छिपा रही है और मामले के आरोपियों को बचाने का गुनाह कर रही है। प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए। किसानों की मौत के बाद विपक्ष के नेताओं को वहां जाने नहीं दिया जा रहा है। जो कि लोकतंत्र का हनन है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि यूपी पुलिस ने भाजपा की सदस्यता ले ली है। विपक्ष के किसी भी नेता को घटनास्थल का दौरा नहीं करने दिया जा रहा है।

रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी का कहना है कि ऐसा लगता है कि यूपी पुलिस ने भाजपा की सदस्यता ले ली है। पुलिस विपक्ष के किसी भी नेता को घटनास्थल का दौरा नहीं करने दे रही है। उन्होंने बताया कि दिल्ली से लखीमपुर पहुंचने में उन्हें करीब 13 घंटे लगे जबकि बीच की दूरी सिर्फ 430 किलोमीटर ही है। वहीं, लखनऊ से लखीमपुर खीरी के सभी मुख्य मार्ग बंद कर दिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि ये चिंता की बात है कि नेताओं द्वारा दिए गए आदेश पर अफसर पूरी तरह अमल कर रहे हैं। राज्य में पार्टी और प्रशासन का फर्क मिट गया है। एडीजी कानून व्यवस्था ने कहा है कि किसी भी राजनेता को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति नहीं है। क्या उन्हें राजनीतिक प्रक्रियाओं पर भरोसा नहीं है। अगर उन्हें राजनेताओं पर यकीन ही नहीं है तो वह चुनाव क्यों लड़ते हैं? उन्होंने सवाल किया कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे के खिलाफ एफआईआर होने के बावजूद वह अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है?