चिन्मयानंद केस: शाहजहांपुर में कांग्रेस की न्याय यात्रा मे आये दो नेता पुलिस ने लिए हिरासत में

चिन्मयानंद केस में एलएलएम छात्रा के पक्ष में आज यानी सोमवार से से न्याय यात्रा निकालने जा रही कांग्रेस के सामने विकट स्थितियां खड़ी हो गई हैं। न्याय यात्रा की अनुमति न दिए जाने के बाद भी कांग्रेसियों के रुख को देखते हुए जिला प्रशासन ने जबरदस्त मोर्चाबंदी की है। साथ ही चिन्मयानंद केस में न्याय यात्रा निकालने के लिए आए कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर और पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी अजय कुमार लल्लू को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उन्हें और अन्य कार्यकर्ताओं को पुलिस लाइन में रखा गया है।

कांग्रेस की न्याय यात्रा को देखते हुए शाहजहांपुर में टाउन हॉल स्थित कांग्रेस दफ्तर के चारों तरफ बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। बैरिकेडिंग की गई है। साथ ही हर आने-जाने वाले व्यक्ति पर नजर रखी जा रही है। कई थाने की फोर्स तैनात की गई है। साथ ही पीएसी को भी लगाया गया है। महिला पुलिस बल की भी खासी संख्या में तैनाती हुई है।

जिला प्रशासन ने शांति भंग की आशंका के चलते कांग्रेस को शाहजहांपुर से लखनऊ तक पदयात्रा निकालने की अनुमति नहीं दी है, इसके बाद भी पदयात्रा निकालने के कांग्रेस नेताओं ने ऐलान किया है। प्रियंका गांधी के निर्देश पर शाहजहांपुर आए राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर और पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी अजय कुमार लल्लू ने छात्रा के पक्ष में न्याय यात्रा निकालकर सरकार को घेरने की घोषणा की थी। इसकी 2 दिन से तैयारी की जा रही थी। पर रविवार देर रात प्रशासन ने इस पदयात्रा को अनुमति देने से इंकार कर दिया। इसके पीछे मौजूदा समय में हो रहे धार्मिक आयोजन के मद्देनजर लगी एक धारा 144 का हवाला दिया गया। पदयात्रा निकलने से शांति भंग की आशंका है, इस कारण अनुमति नहीं दी गई है।

बता दें कि शनिवार को अचानक धीरज गुर्जर और अजय कुमार लल्लू शाहजहांपुर पहुंचे और यहां कांग्रेस कार्यालय पर उन्होंने स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने बताया कि वह छात्रा के पक्ष में न्याय यात्रा निकालने के लिए आए। इसको लेकर स्थानीय कार्यकर्ताओं में उहापोह की स्थितियां पैदा हो गई। कुछ लोगों ने तमाम सवालात किए, लेकिन यात्रा निकालने पर सभी को सहमत होना पड़ा। इसके बाद यह दोनों नेता यात्रा निकालने के लिए पूरे प्रदेश भर से कार्यकर्ताओं नेताओं को एकजुट कर रहे थे, तभी रविवार शाम जिला प्रशासन ने यात्रा निकालने के लिए परमिशन देने से इनकार कर दिया।

इसके बाद इन दोनों नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लेकर पुलिस लाइन में नजरबंद कर दिया। वहीं, अन्य जिलों से शाहजहांपुर पहुंचने वाले कार्यकर्ताओं और नेताओं को भी हिरासत में लिए जाने की तैयारी है। फिलहाल दूसरी ओर जितिन प्रसाद उनकी कोठी में नजरबंद किया गया है।