#PNB 9.9 करोड़ का एक और घोटाला, जांच के दायरे में आई यह कंपनी

नई दिल्ली| पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई स्थित ब्राडी हाउस ब्रांच में 9.9 करोड़ रुपये का एक और घोटाला सामने आया है। यह वो ही ब्रांच हैं, जिसमें हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी ने 124 अरब रुपये का महाघोटाला किया था। बैंक ने इस घोटाले का पता चलने के बाद सीबीआई में इसकी शिकायत दर्ज कर दी है। बैंक ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में चांदरी पेपर एंड एलाइड प्रोडक्ट्स प्राइवेट को इस घोटाले का जिम्मेदार माना है। देश का सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला कहे जा रहे इस मामले में पीएनबी ने दस अधिकारियों को निलंबित कर दिया है और सीबीआई से शिकायत की थी। पीएनबी ने एक बयान में कहा है कि मुंबई स्थित उसकी ब्राडी हाउस ब्रांच में फर्जी तरीके से ट्रांजेक्शन कर नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी को लाभ पहुंचाया गया है। नीरव मोदी के भाई निशाल, पत्नी एमी और मेहुल चीनभाई चोकसी की ओर से किए इन ट्रांजेक्शन के आधार पर आरोपियों ने विदेश में अन्य भारतीय बैंकों से लोन हासिल कर लिया। चोकसी ज्वेलरी चेन गीतांजलि के मालिक हैं। बैंकों में सामने आ रही धोखाधड़ी पर गहरी पीड़ा का इजहार करते हुए आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल ने बुधवार को कहा कि नीलकंठ की तरह आरबीआई विष पी लेगा और आलोचना का सामना करेगा, लेकिन हर कोशिश के साथ बेहतर होने का प्रयास जारी रखेगा। 12,967 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले पर चुप्पी तोड़ते हुए उन्होंने कहा कि मैंने आज बोलने का फैसला यह बताने के लिए किया है कि बैंकिंग सेक्टर की धोखाधड़ी और अनियमितता को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक में हम भी गुस्सा, दुख और पीड़ा महसूस कर रहे हैं।

पटेल यहां गुजरात राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में व्याख्यान दे रहे थे। उन्होंने कहा कि सीधे सरल शब्दों में कहा जाए, तो इस तरह की घटनाएं बता रही हैं कि कारोबारी समुदाय में कुछ लोग बैंकों की मिलीभगत से देश का भविष्य लूट रहे हैं। उन्होंने कहा कि आरबीआई ने बैंकों की संपत्ति गुणवत्ता की समीक्षा की व्यवस्था बनाई है और हम इस भ्रष्ट गठजोड़ को तोड़ने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं।पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से अरबों रुपये का लोन लेकर देश से फरार हुए हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। इसी क्रम में सीबीआई ने मुंबई कोर्ट में पीएनबी से धोखाधड़ी के आरोपी मेहुल चोकसी की कंपनियों के खिलाफ आपराधिक विश्वास हनन का आरोप भी जोड़ा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में मेहुल चोकसी को आजीवन कारावास की सजा हो सकती है।