आज से अमेरिका के दौरे पर PM मोदी, पाकिस्तान के एयरस्पेस से होकर निकलेगा विमान

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एनएसए अजित डोभाल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और सरकार के उच्च पदस्थ अधिकारियों सहित एक टॉप डेलीगेशन भी गया है। माना जा रहा है कि अफगानिस्तान से बचने के लिए पीएम मोदी के विमान को पाकिस्तान से ले जाया गया है। सरकार में मौजूद सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी के अमेरिका जा रहे विमान के लिए पाकिस्तानी वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करने के लिए भारत ने पाकिस्तान ने मंजूरी मांगी थी। इस्लामाबाद ने इसके लिए हामी भर दी थी। एक शीर्ष सूत्र ने बताया, ‘पाकिस्तान ने भारत को अपना वायुक्षेत्र इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी है।’ यहां ध्यान देने वाली बात है कि पाकिस्तान ने इससे पहले राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और पीएम मोदी की विदेश यात्राओं के लिए तीन बार वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करने से मना कर दिया था। ये मामले साल 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद के हैं।

इससे पहले इस्लामाबाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिका और जर्मनी दौरे, राष्ट्रपति कोविंद के आइसलैंड दौरे के समय इजाजत नहीं दी थी। साल 2019 में पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने बयान दिया था कि जम्मू-कश्मीर में भारत के बर्ताव और अत्याचारों की वजह से हमने भारतीय पीएम मोदी के विमान को पाकिस्तान के वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करने से मना कर दिया था। वहीं, इसी साल पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के श्रीलंका दौरे के समय भारत ने अपने वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करने दिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके प्रतिनिधिमंडल के साथ भारतीय वायुसेना के विमान ने दिल्ली से उड़ान भरी है।

पीएम मोदी का विमान बिना रुके 15 घंटे में अमेरिका पहुंचेगा। चूंकि इस विमान को अफगानिस्तान के रास्ते से बचाना है, इसलिए अमेरिका पहुंचने में थोड़ा ज्यादा समय लगेगा। अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से ही कमर्शियल विमानों के लिए वायुक्षेत्र को बंद कर दिया गया है।