‘हम रहें या न रहें, देश को बदनाम नहीं होने देंगे’ : पीएम मोदी

बेंगलुरु। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कर्नाटक के उजीर में कहा कि ‘हम रहें या न रहें, इस देश को बदनाम नहीं होने देंगे। हमने अपने लिए जीना नहीं सीखा है।’ प्रधानमंत्री आज वहां एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम ने इशारों ही इशारों में कांग्रेस के कार्यकाल पर सवाल उठाए। पीएम ने विपक्ष पर भ्रष्टाचार को लेकर जमकर निशाना साधा। उन्होंने डिजिटल लेन-देन को लेकर भी कांग्रेस के अविश्वास को चुनौती देने की बात कही और अपनी उपलब्धियां भी गिनाईं।

पीएम ने मंजुनाथ मंदिर में दर्शन किए और मंदिर के धर्माधिकारी डॉ. वीरेंद्र हेगड़े के साथ मंच साझा किया। उजीर में अपने भाषण में पीएम ने कहा, ‘किसी प्रधानमंत्री ने कहा था कि दिल्ली से जब एक रुपया चलता है तो गांव पहुंचने तक केवल 15 पैसा ही पहुंचता है। मैं पूछना चाहता हूं कि इस एक रुपये को घिसने वाला पंजा कौन सा है? वह पंजा किसका है जो एक रुपये को घिसकर 15 पैसे कर देता था?’ उन्होंने यह भी साफ किया कि केंद्र सरकार में दिल्ली से मिला हर लाभ जनता तक पहुंचता है। पीएम ने कहा पहले रुपये अधिकारी और नेताओं की जेब में जाते थे और अब सीधे जनता तक आ रहे हैं। पीएम ने कहा वह लोग अब परेशान तो होंगे ही, जो इससे लाभ ले रहे थे।

मोदी ने अपने भाषण में डॉ. हेगड़े की जमकर तारीफ की और उनकी कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने की पहल को धन्यवाद दिया।
उजीर में पीएम ने श्री क्षेत्र धर्मस्थल रूरल डिवेलपमेंट प्रॉजेक्ट के तहत चल रहे सेल्फ हेल्प ग्रुप के लाभार्थियों को रूपे कार्ड भी वितरित किए। प्रधानमंत्री इसके बाद बेंगलुरु और बिदार में भी जनसभाओं को संबोधित करेंगे। बिदार में पीएम बिदार-कलबुर्गी रेलवे लाइन का उद्घाटन भी करेंगे।
-एजेंसी