PM मोदी ने जताई उम्मीद- तीन तलाक की व्यवस्था खत्म करने को मुस्लिम ही करेंगे पहल

नई दिल्‍ली। देश में तीन तलाक पर चल रही बहस के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि इस मुद्दे को राजनीतिक चश्‍मे से नहीं देखा जाना चाहिए। उन्‍होंने मुस्लिम समुदाय के प्रबुद्ध लोगो से अपील करते हुए यह भी कहा कि इस व्‍यवस्‍था की खामियों से बेटियों को बचाने के लिए पहल कर उनको आगे आना चाहिए।

पीएम मोदी का यह बयान ऐसे समय में आया है जब तीन तलाक का मसला सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ के समक्ष लंबित है और वह जल्‍द ही इस मसले पर सुनवाई कर इसकी संवैधानिक वैधानिकता पर फैसला देने वाली है। कन्नड़ दार्शनिक बसवेश्वर की जयंती पर आयोजित  एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुये पीएम मोदी ने उम्मीद जताई कि भारत के मुसलमान दुनिया भर में अपने समकक्षों को ”आधुनिकता का मार्ग दिखायेंगे.” उन्होंने कहा कि इन दिनों तीन तलाक पर काफी बहस हो रही है।  भारत की महान परंपरा को देखते हुये मेरे मन में यह उम्मीद है कि देश में मुस्लिम समुदाय के प्रभावशाली लोग इस पुरानी हो चुकी व्यवस्था को खत्म करने के लिये आगे आयेंगे और आधुनिक व्यवस्था विकसित करेंगे।”

अपने 40 मिनट के संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने महिला सशक्तिकरण, समानता और सुशासन के बारे में बातें कींं। तीन तलाक के संदर्भ में उन्होंने कहा, ”यह हमारे देश की मिट्टी की ताकत है कि (मुस्लिम) समुदाय के लोग ही इस परेशानी से हमारी माताओं और बहनों को बचाने के लिये आगे आयेंगे” प्रधानमंत्री ने समारोह में मौजूद लोगों से कहा, ”मैं समुदाय के लोगों से अनुरोध करूंगा कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण न होने दें।”  इस अवसर पर केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार भी मौजूद थे।