PM मोदी का रोजगार मंत्र फेल, लाखों लोगों की नौकरियों पर संकट

नई दिल्ली। मिडिया सेक्टर से लाखों बेरोजगार होकर बदतर जिन्दगी जीने को मजबूर हो चुके हैं। अब आई सेक्टर पर हावी होने लगा है खतरा। प्रतिदिन बढ़ती बेरोजगारी की समस्या देश की प्रगति में रोड़ा साबित हो रही है। जहां एक ओर बेरोजगार नौकरी की तलाश में दर-दर भटक रहे हैं, वहीं नौकरी करने वालें लोगों को नौकरी खो जाने का डर सता रहा है। हाल ही में पुणें में एक इंजीनियर ने अपनी नौकरी खो जाने के डर से खुदकुशी कर ली।

बेंगलुरू की एक एजेंसी के अनुसार, नौकरी की वजह से भारत में लगभग हर क्षेत्र के लोग डर के माहौल में जी रहे हैं, जिस कारण उनमें डिप्रेशन और एंग्जायटी जैसी समस्या ज्यादातर देखने को मिलती है। इससे उनके काम करने की क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता है। योरदोस्त (yourdost) नामक संस्था के मुताबिक देश में आने वाले तीन सालों में लोगों को उनकी नौकरी से निकाल देने की संभावना और बढ़ती हुई नजर आ रही है। केवल आईटी सेक्टर से 6 लाख लोगों की नौकरी जाने की संभावना है।

इस समस्या को ध्यान में रखकर डिजीटल कंपनी फायर्ड टू फायर्ड अप (fired to fired up) ने एक टोल फ्री नंबर जारी किया है. इसके जरिये लोग आसानी से अपनी नौकरी खोने की समस्या का जिक्र किसी मनोवैज्ञानिक से कर सकते हैं. इस मुहिम में करीब 1000 लोगों ने भाग भी लिया है। आंकड़ों के मुताबिक लगभग 65% कर्मचारी अपनी नौकरी की असुरक्षा को लेकर खासा चिंतित रहते हैं. इन आकड़ो में करीब 43% कर्मचारी आईटी सेक्टर से थे। आकड़ों के तहत कम तजुर्बेदार कर्मचारी अपनी नौकरी को लेकर ज्यादा चिंतित है।

योरदोस्त (yourdost) की को-फाउंडर ऋचा सिंह ने बताया कि ” हलांकि नौकरी खोना एक आम बात हैं लेकिन हमारे समाज में इसे एक कलंक के तौर पर देखा जाता है। इससे व्यक्ति को काफी मानसिक परेशानी का सामना करना पड़ता है। उनकी इन्हीं परेशानियों को हम प्रोफेशनल्स की मदद से सुलझाने की कोशिश करते हैं।