पर्यावरण मंत्री की लोगो से आखिरी इच्छा – ‘पेड़ लगायें, नदी बचायें’

नयी दिल्ली | देश के पर्यावरण मंत्री रहे अनिल माधव का पर्यावरण प्रेम उनके मरने के बाद देश के सामने आया है | माधव ने अपनी वसीयत में प्रकृति से प्रेम दिखाते हुए अपनी स्मृति में वृक्षारोपण का सन्देश लोगो को दिया है | केंद्रीय  वन एवं पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे ने मृत्यु से पांच साल पहले ही अपनी वसीयत में अपना अंतिम संस्कार होशंगाबाद ज़िले के बान्द्राभान में नर्मदा नदी के तट पर करने तथा उनकी स्मृति में वृक्षारोपण एवं जल संरक्षण किये जाने की इच्छा व्यक्त की थी।
अनिल माधव दवे ने 23 जुलाई 2012 को ही अपनी अंतिम इच्छा लिखकर रख दी थी। उन्होंने लिखा था कि संभव हो तो उनका अंतिम संस्कार बांद्राभान में नदी महोत्सव वाले स्थान पर किया जाये। उन्होंने यह भी लिखा कि उनका अंतिम संस्कार केवल वैदिक रीति से किया जाये तथा कोई भी आडम्बर या दिखावा नहीं हो।