उन्नाव: पाक्सो कोर्ट में कुलदीप सेंगर को किया पेश, 7 दिन और बढ़ी रिमांड

लखनऊ | बहुचर्चित रेप कांड की जांच कर रही सीबीआई ने आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को शुक्रवार की शाम पाक्सो कोर्ट से सात दिन के रिमांड पर लिया। विधायक को शाम 4.45 बजे कुछ देर के लिए एडीजे दशम/ विशेष सत्र न्यायाधीश (पाक्सो) की कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से रिमांड मंजूर होने पर सीबीआई विधायक को अपने साथ लखनऊ ले गई। सीबीआई ने विधायक के खिलाफ 12 अप्रैल को नाबालिग लड़की से रेप का मुकदमा दर्ज किया था। 14 अप्रैल को कोर्ट में पेश करने के बाद सीबीआई ने विधायक को सात दिन के रिमांड पर लिया था। शनिवार सुबह रिमांड का समय पूरा हो रहा था। शुक्रवार शाम सीबीआई टीम विधायक को लेकर विशेष सत्र न्यायाधीश (पाक्सो) आशुतोष की अदालत में पहुंची। सीबीआई के वकील की ओर से कहा गया कि अभी तमाम बिन्दुओं पर जांच बाकी है। साक्ष्य जुटाने के लिए विधायक को रिमांड पर लेने की अनुमति प्रदान करें। जज के समक्ष विधायक को दो मिनट के लिए पेश किया गया। विधायक को देखने के बाद जज ने सात दिन की रिमांड मंजूर कर दी। सीबीआई को आदेश दिया कि विधायक को ले जा सकते हैं। रिमांड पूरी होने पर 27 अप्रैल को कोर्ट में हाजिर करने का आदेश दिया। सीबीआई के वकील और अफसरों की ओर से विधायक का मेडिकल लखनऊ में कराने के लिए आग्रह किया गया।

जज ने इससे इनकार कर दिया। सवाल किया लखनऊ से यहां आने में एक घंटे का समय लगेगा, इसकी गारंटी कौन लेगा? मेडिकल परीक्षण यहीं किया जाएगा। इसके बाद कारागार यहीं से भेंजें। सीबीआई की ओर से रिमांड के लिए 28 अप्रैल तक का समय मांगा जा रहा था पर जज ने साफ तौर पर इनकार कर दिया। 27 तक के लिए रिमांड मंजूरी दी। बोले, एक समय में सिर्फ एक ही आदेश जारी किया जाता है। कोर्ट ने आदेश दिया कि आरोपी रिमांड के दौरान अपने वकील से 20 मिनट राय ले सकते हैं। सुबह दस बजे और शाम को छह बजे का समय विधिक सलाह के लिए निर्धारित किया गया है। आरोपी को सीबीआई विवेचना के लिए संबंधित स्थान पर या फिर बरामदगी स्थल पर ले जाती है तो वह चाहे तो अपने वकील को साथ ले जा सकते हैं। लेकिन वकील को करीब बीस फीट दूर रहना होगा। विवेचना में किसी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं करना होगा।