किसान आंदोलन : अब सोनीपत में बुजुर्ग किसान ने जहर खाया, हालत गंभीर

पानीपत | कृषि कानूनों के विरोध में हरियाणा के सोनीपत में कुंडली बार्डर पर चल रहे धरने में सोमवार को उस समय हड़कंप मच गया, जब एक बुजुर्ग किसान ने जहर खा लिया। पंजाब के तरनतारन के रहने वाले 65 साल के किसान निरंजन सिंह ने सोमवार को धरनास्थल पर ही जहर खा लिया। हालत बिगड़ने पर उन्हें सोनीपत के सामान्य अस्पताल लाया गया, जहां से उन्हें रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इससे पहले पिछले बुधवार को कृषि कानूनों को रद्द करवाने की मांग को लेकर कुंडली बॉर्डर स्थित धरनास्थल पर नानकसर सिंगरा गुरुद्वारा के बाबा राम सिंह ने कनपटी के पास गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। उनके पास से सुसाइड नोट मिला था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि किसानों का दर्द देखा नहीं जा रहा। किसान ठंड में अपनी मांगों को लेकर सड़क पर परेशान हो रहे हैं। जिसके चलते वह रोष स्वरूप आत्महत्या कर रहे हैं। 

करनाल के नानकसर सिंगरा गुरुद्वारे के बाबा रामसिंह (65) के परिचित अमरजीत सिंह ने बताया कि शाम को उन्होंने खुद को गोली मार ली। घायल अवस्था में उन्हें तुरंत पानीपत के निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां पर चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।  आसपास के लोगों ने बताया कि धरनास्थल पर कई किसान मौजूद थे। इसी दौरान संत बाबा राम सिंह ने आंदोलन में बलिदान देने की बातें करते हुए अन्य किसानों को स्टेज पर भेज दिया। उसके बाद खुद को अपने वाहन में जाकर गोली मार ली।