तानाशाह किम जोंग ने दक्षिण कोरिया के शांति बहाली संबंधी प्रयासों को सराहा

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कहा है कि वो दक्षिण कोरिया के साथ सुलह का माहौल बनाए रखना चाहते हैं. उत्तर कोरिया की सरकारी एजेंसी ने इसकी पुष्टि की है. अपने ताज़ा बयान में किम जोंग उन ने शांति बहाली की सभी कोशिशों के लिए दक्षिण कोरिया की तारीफ़ भी की है.
एजेंसी के अनुसार, किम जोंग उन का ये बयान उस रिपोर्ट को देखने के बाद आया है जिसे दक्षिण कोरिया से लौटने पर उत्तर कोरियाई प्रतिनिधिमंडल ने तैयार किया है. इस प्रतिनिधिमंडल में किम की बहन किम यो जोंग में शामिल थीं, जिन्होंने प्योंगचांग में हो रहे विंटर ओलंपिक खेलों के उद्घाटन समारोह में भी शिरक़त की थी.

दक्षिण और उत्तर कोरियाई नेताओं की मुलाक़ात-
हालांकि एजेंसी की इस रिपोर्ट में किम जोंग उन के दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन को वार्ता के लिए उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग आने का निमंत्रण देने का ज़िक्र नहीं है. ओलंपिक खेलों की शुरुआत के एक दिन बाद ही ख़बरें आईं थीं कि उत्तर कोरिया के सुप्रीम नेता किम जोंग उन ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई इन को अपने देश आने का न्योता दिया है. उस वक़्त कहा जा रहा था कि अगर दक्षिण केरियाई नेता उत्तर कोरिया जाते हैं तो बीते दशकों में ये कोरियाई नेताओं की पहली मुलाक़ात होगी.

अमरीका की चेतावनी –
वहीं अमरीका उत्तर कोरिया के साथ नज़दीकी बढ़ाने के ख़िलाफ़ चेतावनी जारी कर चुका है.
अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के प्रशासन ने कहा था कि उत्तर कोरिया अपना परमाणु कार्यक्रम जारी रखे हुए हैं और इस तनाव के दौरान हो रहे विंटर ओलंपिक खेलों में दक्षिण कोरिया को सतर्कता बरतनी चाहिए और उत्तर कोरिया के क़दम के झांसे में नहीं आना चाहिए.
बीते शनिवार को ही अमरीकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने ट्वीट किया था कि अमरीका विश्व के पटल पर उत्तर कोरियाई सरकार के प्रोपोगैंडा को सफल होने नहीं देगा.
-BBC