AMU से बड़ी खबर, VC की बनाई फर्जी आईडी, FIR दर्ज

अलीगढ़। लॉकडाउन में #AMU से एक और बड़ी खबर सामने आईं है । अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कुछ अज्ञात तत्वों द्वारा वाइस चांसलर की फेक आईडी बना ली। इस फेक आईडी से विश्वविद्यालय के शिक्षकों को अलग अलग मेल कर उन पर रौब गालिब किया। कई तरह के आदेश शिक्षकों को दिये गये। कुछ वरिष्ठ शिक्षकों ने इस संदर्भ में जब वीसी से संपर्क किया तो मामला उजागर हो गया। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से एसएसपी को पत्र लिखकर मामले में अज्ञात तत्वों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन ने रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद आईपीएस के माध्यम से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज जी को पत्र लिखा। जिसमें बताया कि कुछ अज्ञात तत्वों ने विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर के नाम परे फर्जी आईडी बना ली है। इस आईडी के जरिए शिक्षकोें को कई तरह के मैसेज किये गये। शिक्षकों पर नियम विरुद्ध कई आदेश दिये गये। कई तरह की बातों का उल्लेख किया गया। मामले में जब कुछ वरिष्ठ प्रोफेसर्स की ओर से वीसी से संपर्क कर मेल के बारे में पूछा गया तो वीसी ने अनभिज्ञता जतायी। कहा कि मेरी ओर से इस तरह का कोई मैसेज नहीं भेजा गया। ऐसे में इंतजामिया टेंशन में आ गया कि किसी ने फेक आईडी बनाकर मेल किया गया है। अभी तक तो शिक्षकों को मैसेज करने की बात सामने आई है।.

आशंका जतायी जा रही है कि अन्य लोगों को भी मेल किया गया है। मामले में अज्ञात लोगों/अपराधियों जिन्होंने कुलपति के फर्जी नाम से विश्वविद्यालय के शिक्षकों को गलत संदेश एवं मेल प्रेषित किये हैं, के विरूद्व एफआईआर दर्ज करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज जी को भेजे आवेदन में एएमयू रजिस्ट्रार ने अज्ञात लोगों के विरूद्व संबंधित आईटी एक्ट की धारा के अन्तर्गत मुकद्दमा दर्ज करने का आग्रह करते हुए उनके विरूद्व भारतीय दंड सहिंता के अन्तर्गत कार्यवाही करने की मांग की है ताकि अपराधियों की पहचान कर उनको इस अपराध की सजा मिल सके।