प्रियंका और राहुल में से बेहतर राजनेता कौन, सवाल पर मोदी ने दिया यह जवाब

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव से पहले एक निजी चैनल को दिए साक्षात्कार में गांधी परिवार पर खुलकर बातें कहीं। उन्होंने बताया कि वे अपनी रैलियों में राहुल गांधी का नाम क्यों नहीं लेते हैं? कभी शहजादा बोलते हैं, कभी राजा साहब बोलते हैं, कभी महाराजा, नामदार, लेकिन राहुल गांधी नहीं कहते। साथ ही मोदी से यह भी पूछा गया कि राहुल और प्रियंका गांधी में से उन्हें कौन बेहतर राजनेता लगता है? पढ़िए पीएम मोदी के जवाब -राहुल और प्रियंका के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा, कांग्रेस करीब सवा सौ साल पुरानी पार्टी है। सवाल उठता है कि इसमें बड़े नेता उभरकर क्यों सामने नहीं आते हैं। बाकि उनमें कौन अच्छा या कौन बुरा, मैं व्यक्तिगत रूप से परिचित नहीं हूं। ना कभी इस विषय पर हमें चर्चा करने का सौभाग्य मिला है। इसलिए उनका ऐसा जजमेंट लेना मेरा हक बनता नहीं है और ये कांग्रेस पार्टी का अंदरुनी विषय है, उनको जो अच्छा लगे उसे नेता बनाए।

प्रियंका गांधी वाराणसी से मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ सकती है, इसके जवाब में पीएम ने कहा, लोकतंत्र है। कोई कहीं से भी चुनाव लड़ सकता है। यह उनका फैसला है।पीएम मोदी से पूछा गया कि वे खुद भी दो सीट से चुनाव लड़े हैं, अटल बिहारी वाजपेयी ने भी ऐसा किया था, तो राहुल गांधी के अमेठी और वायनाड से चुनाव लड़ने पर भाजपा आक्रामक क्यों है? मोदी ने जवाब दिया, ‘वे कहां से चुनाव लड़ें और कहां से नहीं, यह मेरा विषय नहीं है। भारत के संविधान ने उन्हें यह अधिकार दिया है, लेकिन उस तरीके पर सवाल उठ रहे हैं, जिसके तहत उन्हें वायनाड को चुनना पड़ा। यह चर्चा हमने नहीं मीडिया ने ही शुरू की है। सच्चाई यह है कि उन्हें अमेठी में हारने का डर सता रहा है, इसलिए वे सुरक्षित सीट चुनने को मजबूर हुए हैं।’