विश्व हिंदू परिषद के प्रवीण तोगड़िया को मोदीराज में एनकॉउंटर का डर, देशभर के हिंदूवादी मौन !

नई दिल्ली । केंद्र से लेकर प्रदेश तक मे हिंदूवादी सरकार होने के बावजूद विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया को खुद की ही सरकार में एनकॉउंटर का डर सता रहा है । उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधा है । सोमवार को 11 घंटे तक गुमशुदा रहने के बाद VHP अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया हमदाबाद में बेहोशी की हालत में मिले थे, जिसके बाद उसे अहमदाबाद के चंद्रमणि अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। जिस तरह से सुबह वो गायब हुए और उसके बाद बेहोशी की हालत में मिले, हर कोई ये जानना चाहता था कि आखिर ये सब हुआ कैसे। खुद पुलिस भी इस मामले में उहापोह में थी, लेकिन अब इस राज़ से पर्दा उठ गया है। जी हाँ, होश में आने के बाद खुद प्रवीण तोगड़िया ने प्रेस वार्ता कर अपने गायब होने के राज़ से पर्दा उठाया है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में तोगड़िया ने कहा, ”मेरी आवाज को दबाया जा रहा है और एन्काउंटर करने की साजिश हो रही है”। तोगड़िया ने कहा, ”मकर संक्राति के दिन राजस्थान पुलिस का काफिला मुझे गिरफ्तार करने के लिए आया था। मैं रविवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के भैयाजी जोशी के साथ कार्यक्रम करके रात को 1-2 बजे लौटा। मैंने पुलिस को सोमवार को ढाई बजे आने को कहा। मैं जब सुबह पूजा कर रहा था, तभी एक शख्स आया और उसने कहा कि आप तुरंत कार्यालय छोड़ दो, आपको उठाकर एन्काउंटर करने के लिए लोग निकले हैं”।

उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ”जब मैंने बाहर देखा तो वहां दो पुलिसवाले थे। इसके बाद मुझे फोन आया कि गुजरात और राजस्थान पुलिस का काफिला निकला है”। तोगड़िया ने कहा, ”मुझे जो होगा, वह होगा, लेकिन देश में बुरी स्थिति खड़ी हो जाएगी। इसके बाद मैं तुरंत उन्हीं कपड़ों में पैसे लेकर बाहर निकला और नीचे खड़े अॉटो रिक्शा में शॉल ओढ़कर कार्यकर्ताओं के साथ निकल गया”। तोगड़िया ने कहा, ”मैंने रास्ते में राजस्थान के मुख्यमंत्री और गृहमंत्री से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि हमारी ओर से कोई पुलिस नहीं भेजी गई है। इसके बाद मैंने अपना फोन स्विच अॉफ कर दिया, ताकि फोन न ट्रेस हो”। उन्होंने कहा, ”राजस्थान में वकील से संपर्क कर हाईकोर्ट में वारंट कैंसल की मांग की। मैं जयपुर जाकर कार्यकर्ताओं के साथ कोर्ट में जा रहा था, रास्ते में कुछ गड़बड़ हुई और बीमार हो गया”।

दरअसल राजस्थान की गंगापुर कोर्ट ने दस साल पुराने दंगे के एक मामले को लेकर तोगड़िया के खिलाफ गिरफ्तारी का वॉरंट जारी किया था। कई बार जमानती वॉरंट जारी होने के बावजूद जब वह कोर्ट में पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ गैर-जमानती वॉरंट जारी हो गया। इसी सिलसिले में राजस्थान पुलिस सोमवार को अहमदाबाद आई थी, लेकिन तोगड़िया के न मिलने पर उसे खाली हाथ लौटना पड़ा।

हिंदुत्व के फायरब्रांड नेता प्रवीण तोगड़िया के खुलासे के बाद हिंदुत्ववादी , भाजपाई स्तब्ध हैं । दबी जुबां मोदी सरकार के खिलाफ आक्रोष में हैं । कथित हिंदूवादियों ने भी तोगड़िया के खुलासे के बाद मौन साधे हुए हैं । मोदी सरकार भी असहज नजर आ रही है ।