महंगाई को लेकर सपा कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल संबोधित ज्ञापन डीएम को दिया

योगी सरकार की नीति को लेकर समाजवादी पार्टी ने जिला मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन कर राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।
सौपे गये ज्ञापन में बताया गया कि देश में भाजपा की आर्थिक नीतियों के चलते नोटबंदी और जीएसटी के कारण आम जनता बुरी तरह परेशान है।

मंहगाई सुरसा के मुंह की तरह बढ़ती जा रही है, परन्तु अभी राज्य में नगर निकाय चुनाव खत्म होते ही उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने जिस तरह बिजली की दरें बढ़ाकर घरेलू अर्थव्यवस्था पर चोट की है उससे लोगो की कमर टूट गई है। ग्रामीण क्षेत्रों और विशेषकर किसानों को मिलने वाली बिजली की दरो में अचानक हुई भीषण बढ़ोत्तरी भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों का प्रदर्शन है। पूरे प्रदेश में लोग इसको लेकर आक्रोशित हैॅ। समाजवादी पार्टी की मांग है कि विद्युतदरों को तत्काल वापस लिया जाए अन्यथा समाजवादी पार्टी के लोग जनता के हित में रोड पर उतरेगें तथा जेल भरो आन्दोलन को बाध्य होगें।

धरना प्रदर्शन सभा को पूर्व राज्यमंत्री डा.एसपी ने कहा कि उ.प्र. सरकार ने राज्य के विकास की दिशा में 09 माह में कोई कदम नहीं उठाये और बिजली व्यवस्था को बर्बाद करने में किसी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ी है। नगरीय निकाय चुनाव के दिनों में बिजली दरो में भारी वृद्धि का प्रस्ताव छुपाकर ठीक चुनाव प्रक्रिया समाप्त होते ही बिजली दरों में भारी वृद्धि लागू करना भाजपा सरकार का आचरण जन विरोधी है। किसी तरह का प्रकार की कार्यवाही को उचित नहीं माना जा सकता है। क्योकि इससे राजनीति में दोहरे चरित्र की मानसिकता और शासकीय स्वार्थपरता को बढ़ावा मिलेगा। इसीक्रम में जिलाध्यक्ष ओंकार नाथ पटेल ने कहा कि भाजपा सरकार ने समाजवादी सरकार के समय की जनहितकारी व्यवस्थाओं को राग द्वेष की भावना के उद्देश्य से व्यवस्थाओं को बदलने अथवा समाप्त करने में अपनी पूरी शक्ति लगा रखी है।

धरना सभा को पूर्व विधायक मसूद खां, इदरीश खां नवनिर्वाचित चेयरमैन, पूर्व विधायक जगराम पासवान, महामंत्री इकबाल जावेद, नफीस मेकरानी आदि ने संबोधित किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष काजी नूरूल हुदा, पूर्व चेयरमैन तैयब बाबू, शमीम खां नगर अध्यक्ष उतरौला, रामसोहरत यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि गुरूदास सरोज, नगर अध्यक्ष सै.मो.इंजीनियर, जिला मीडिया प्रभारी मो.आलम, शानू खां, मो.कलीम, महेन्द्र यादव, दिनेश प्रताप सिंह मोनू, धु्रव जी सभासद आदि सहित सैकड़ो कार्यकर्ता व पदाधिकारी धरना प्रदर्शन में मौजूद रहे।