मेघालय में किसके सर सजेगा सत्ता का ताज, 6 विधायकों के साथ बैठक जारी

नई दिल्ली| यूडीपी नेता दोनकुपर रॉय 19 मार्च 2008 से 19 मार्च 2009 तक मेघालय के मुख्यमंत्री रह चुके हैं मुख्यम उनका कार्यकाल 365 दिन का था इधर बीजेपी और कांग्रेस भी अपने नेताओं के साथ मीटिंग कर रही है इसमें बीजेपी असम भवन में अपने नेताओं के साथ मीटिंग कर रही है बीजेपी के वरिष्ठ नेता किरण रिजिजू ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है कि पार्टी ने नव निर्वाचित विधायक एएल हेक को बीजेपी के विधायक दल का नेता बनाया गया है। मेघालय विधानसभा चुनाव के परिणामों में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिल पाने के कारण सरकार बनाने कोे लेकर दांव-पेंच की राजनीति शुरू हो गई है।सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर दोनकुपर रॉय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी) के 6 विधायकों के साथ मीटिंग कर रहे हैं मीटिंग के बाद इस बात की घोषणा की जाएगी कि वो किसे समर्थन करेंगे इसी के साथ यह भी तय हो जाएगा कि बीजेपी और कांग्रेस में से कौन मेघालय में सत्ता की कुर्सी पर काबिज होगा। गौर हो कि 21 सीटों पर विजय हासिल करने वाली कांग्रेस ने शनिवार को परिणाम आने के तुरंत बाद राज्यपाल को पत्र सौंपा और सरकार बनाने का दावा पेश किया सरकार बनाने के दावे को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीपी जोशी और विंसन पाला ने राज्यपाल से मुलाकात की और पत्र सौंपा। दूसरी ओर बीजेपी भी अपने सपोर्ट से गठबंधन की सरकार बनाने को लेकर पूरी ताकत लगा रही है इस बाबत बीजेपी नेता और असम सरकार में मंत्री हेमंत विस्वा शर्मा नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं भाजपा के वरिष्ठ नेता किरण रिजिजू और केजे अल्फोंस भी शिलांग पहुंच रहे हैं

मेघालय में सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी कांग्रेस गोवा और मणिपुर में हुई अपनी गलतियों को दोहराना नहीं चाहती है यही कारण है कि मेघालय के नतीजे आने से पहले ही कांग्रेस पार्टी ने अपने तीन वरिष्ठ नेताओं अहमद पटेल कमलनाथ और मुकुल वासनिक को दिल्ली से शिलांग के लिए रवाना कर दिया था इन तीनों नेताओं ने शिलॉन्ग में आने के बाद मेघालय में कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए रणनीति तैयार करनी शुरू कर दी। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा कि हमने मेघालय के गवर्नर से शनिवार देर रात मुलाकात की और उन्हें एक चिट्ठी दी थी उन्होंने कहा कि नियम अनुसार जो सबसे बड़ी पार्टी होती है उसे ही पहले सरकार बनाने का न्योता दिया जाना चाहिए ऐसे में कांग्रेस को यह मौका पहले मिलना चाहिए जिसके बाद वो मेघालय असेंबली में फ्लोर टेस्ट के दौरान बहुमत सिद्ध करेंगे। कमलनाथ ने बीजेपी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि बीजेपी के पास सिर्फ दो सीट हैं उनके वरिष्ठ नेता यहां क्यों हैं? उन्होंने पूछा कि दो सीटों वाली भाजपा अन्य विधायकों को लुभा रही है। मेघालय में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने सबसे ज्यादा 21 सीटों पर जीत हासिल की है, इसके बावजूद उसे पिछले चुनाव के मुकाबले नुकसान झेलना पड़ा है पिछले चुनावों में पार्टी ने 60 में से 29 सीटें जीती थीं भाजपा की संभावित गठंबधन साझेदार नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) ने 19 सीटें जीत ली हैं और भाजपा को 2 सीटों पर जीत मिली है।