मेरठ : विधायक पर बात आई तो पुलिस ने दुकानदारों को ही बना दिया आरोपी

मेरठ। जिले के बेगमपुल चौराहे पर चश्मा खरीदने के दौरान एक युवक ने खुद को भाजपा विधायक का भतीजा बताकर जमकर गुंडागर्दी की। हॉस्टल से साथी छात्र बुलाकर दुकानदार पर हमला बोल दिया। मारपीट में दोनों तरफ से चोटें आईं, लेकिन लालकुर्ती पुलिस ने भाजपा विधायक का नाम आने पर खेल कर दिया। पुलिस ने छात्रों का मेडिकल कराकर उल्टा दुकानदारों को ही आरोपी बना दिया। पुलिस का कहना है कि दुकानदारों की तरफ से कोई तहरीर नहीं दी गई। वहीं आज पीड़ित ने एसएसपी से मिलकर न्याय की गुहार लगाई है।
क्या है पूरा मामला?

दरअसल मन्नू बेगमपुल नाला रोड पर बेल्ट बेचता है। मन्नू के बरामदे में राजेश चश्मे की दुकान लगाता है। मन्नू के मुताबिक तीन युवक शाम को वहां पहुंचे। बेल्ट और चश्मा खरीदने की बात करने लगे। मन्नू ने बताया कि पैसों को लेकर विवाद के बाद उन्होंने चश्मा लेने से मना कर दिया। इसके बाद भी जेब में चश्मा रखकर ले जाने लगे। टोकने पर उन्होंने चश्मा निकालकर वापस दे दिया। इस पर दुकानदारों की उनसे बहस हो गई। इस पर युवकों ने हॉस्टल से दूसरे छात्रों को फोन करके बुला लिया। छात्रों ने वहां पहुंचते ही दुकानदारों को पीटना शुरू कर दिया। बेल्ट आदि मारकर मन्नू का सिर फोड़ दिया। मारपीट में दोनों तरफ से कई घायल हो गए।

पीड़ित के सिर में लगे छह टांके
लोगों की सूचना पर लालकुर्ती पुलिस मौके पर पहुंची तो एक युवक रवि निवासी फलावदा ने खुद को विधायक हस्तिनापुर दिनेश खटीक का भतीजा बताया। पुलिस दोनों पक्षों के घायलों को लालकुर्ती थाने ले गई। मन्नू का सिर फूटने के वजह से उसे जिला अस्पताल ले जाया गया। उसके सिर में छह टांके आने के बाद भी पुलिस ने उसके साथ ही नवाज, आसिफ और आबिद को हिरासत में ले लिया। पूरे मामले में दूसरे पक्ष का कहना था कि भाजपा विधायक के रिश्तेदार का नाम आने पर पुलिस ने उन्हें ही पकड़ लिया। रवि और उसका दोस्त चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से एमएससी की पढ़ाई कर रहे हैं।