अतुल प्रधान ने किया मेरठ की क्रांतिकारी धरती से कालेज-कैम्पसों के भगवाकरण के खिलाफ आन्दोलन का आगाज़

जियाउर्रहमान

1857 में देश की आज़ादी की लड़ाई का शंखनाद स्वतंत्रता सेनानी मंगल पाण्डेय ने जिस मेरठ की क्रांतिकारी धरती से किया था अब 70 साल बाद उसी क्रांतिकारी धरती से देश में बड़ते हिन्दू-मुस्लिम की भावना के खिलाफ क्रांतिकारी समाजवादी छात्र नेता अतुल प्रधान ने लड़ाई का आगाज़ किया है | गत 24 जुलाई को चौ चरण सिंह यूनिवर्सिटी के कैंपस में हजारो छात्रों के साथ अतुल प्रधान ने सीसीएस सहित प्रदेशभर के कालेज-कैम्पसों के भगवाकरण के प्रयासों के खिलाफ आन्दोलन का आगाज़ किया | अतुल प्रधान के इस शंखनाद ने उत्तर प्रदेश की छात्र राजनीति को दिशा देने का काम तो किया ही है साथ ही योगी सरकार और आरएसएस के खिलाफ बड़े अभियान का संकेत दे दिया है | मेरठ सहित देशभर में अतुल प्रधान के इस आन्दोलन के आगाज की सराहना हो रही है | सोशल मीडिया पर भी अतुल के वीडियो वायरल हो रहे हैं और लोग प्रशंसा कर रहे हैं |

गत सोमवार को यूपी में छात्र राजनीति के नायक माने जाने वाले छात्र नेता अतुल प्रधान सीसीएस के छात्र संघ अध्यक्ष रहे राजदीप विकल द्वारा समाजवादी छात्र सभा के बैनर तले चौ चरण सिंह यूनिवर्सिटी परिसर में कुलपति द्वारा आरएसएस और ABVP का एजेंडा थोपने के विरोध में रखे गए प्रदर्शन में पहुंचे थे  | कुलपति के तानाशाही रवैय्ये और आरएसएस के एजेंडे को लागू करने के विरोध में हजारों छात्र इस प्रदर्शन में पहुंचे | गैर जनपदों के छात्र नेता भी मेरठ में आयोजित हुए इस प्रदर्शन को समर्थन देने पहुंचे और अतुल प्रधान के नेत्रत्व में आन्दोलन को पूरे प्रदेश में चलाने का एलान किया | हजारों की संख्या में पहुंचे छात्रों को देखकर पुलिस प्रशासन की चिंताएं बढ़ गयी | अतुल प्रधान ने पुलिस को दो टूक समझा दिया कि छात्रों की लड़ाई जायज है, लोकतान्त्रिक तरीके से लड़ रहे हैं | उन्होंने स्पष्ट कहा कि जब तक अतुल प्रधान खड़ा है लॉ & आर्डर की कोई दिक्कत नहीं होगी | छात्रों की एकजुटता को देख पुलिस प्रशासन भी बैकफुट पर आ गया |

अतुल प्रधान ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि आरएसएस और ABVP के एजेंडे के खिलाफ एकजुट होकर लड़ना है | उन्होंने वीसी पर निशाना साधते हुए कहा कि धर्म पूछकर कार्य करोगे ! जाति पूछकर कार्य करोगे ! आरएसएस के एजेंडे को लागू करोगे ! तुम्हे शर्म आनी चाहिए कि Academic पोस्ट पर रहकर ऐसा करते हो | उन्होंने कहा कि भेदभाव के खिलाफ एक होना है | उन्होंने छात्रों को समझाया कि बांटे वालो से सावधान रहना है | बांटने वाले लोग कभी देश के लिए अच्छे नहीं हो सकते | उन्होंने कहा कि असली राष्टवाद गरीबो की, दलितों की, शोषितों की आवाज़ उठाना है , उनकी मदद करना है |

उन्होंने कहा कि आरएसएस और ABVP वाले लोग धर्म के आधार पर बाँटने की बात करते हैं राष्ट्रवाद की यह परिभाषा ठीक नहीं है | उन्होंने कहा कि कुलपति आरएसएस के एजेंडे को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं जिसे कामयाब नहीं होने दिया जायेगा | उन्होंने कालेज-कैंपसो के भगवाकरण के किये जा रहे प्रयासों पर कहा कि हम दबे, कुचले, लाचार और अकलियत के लोगो की मदद करेंगे | आरएसएस की बिग्रेड कालेजों में आरएसएस के लोगो को रख रहे हैं जिससे छात्रों की नसों में बांटने वाले एजेंडे को भर सके, हम इसके खिलाफ अभियान चलाएंगे | उन्होंने कहा कि गोवा के मुख्यमंत्री ने बीफ के आयात की बात कही तो क्यों तथाकथित गौ रक्षक गोवा जाकर पुतले नहीं फूंक रहे ? उनके साथ क्यों मारपीट नहीं कर रहे ? क्यों गोवा के मुख्यमंत्री के खिलाफ आन्दोलन नहीं करते, उसपर मुकद्दमा दर्ज नहीं करते ?  अतुल प्रधान ने कहा कि सोशल मीडिया लोगो की आवाज़ बुलंद कर रहा है, लेकिन मुख्य मीडिया खबरे वही दिखा रहा है जो आरएसएस के लोग चाहते  हैं | उन्होंने कहा कि समाजवादी छात्र सभा का यह आन्दोलन रुकेगा नहीं, पूरे प्रदेश में इनके एजेंडे के खिलाफ  हम लड़ाई लड़ेंगे |

आरएसएस और भाजपा के एजेंडे के खिलाफ अतुल प्रधान के इस शंखनाद ने समाजवादी पार्टी सहित यूपी की छात्र राजनीति को दिशा देने का काम किया है | विश्लेषको का मानना है कि अतुल के नेतृत्व में आन्दोलन आगे बड़ा तो योगी सरकार के लिए छात्र नेताओं का शंखनाद भारी पड़ सकता है |