मेरठ में सत्ता का नशा : एसपी सिटी से बोले भाजपाई, ‘मुकद्दमा वापिस लो वर्ना सिपाही बना देंगे’

आकाश पाण्डेय/मेरठ | भाजपा नेताओं पर सत्ता का खुमार सिर चढ़कर बोल रहा है | एसपी सिटी तक को भाजपाई नहीं बख्श रहे हैं |एसपी सिटी को घेरकर भाजपाइयों ने जमकर बवाल काटा | कमल दत्त शर्मा ने हंगामा करते हुए एसपी सिटी मानसिंह चौहान को धमकाते हुए कहा कि एसपी साहब गलतफहमी दिमाग से निकाल देना। एसपी सिटी ने इस व्यवहार से आला अफसरों को अवगत कराया है। उधर, इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

संयुक्त व्यापार संघ के अध्यक्ष नवीन गुप्ता, महामंत्री अरुण वशिष्ठ, भाजपा नेता बिजेंद्र अग्रवाल, भाजपा नेता कमलदत्त शर्मा और अन्य भाजपाई शाम करीब चार बजे घंटाघर स्थित एसपी सिटी ऑफिस पहुंचे। कमल दत्त शर्मा एसपी सिटी पर बरस पड़े। कहा, एसपी सिटी साहब दिमाग से गलतफहमी निकाल देना। मुझे बंद करोगे ? मैं एक हजार जगह जाऊंगा। मुझ पर मुकदमा दर्ज करा दिया। डीएम, एसएसपी, एसपी सिटी तय करेंगे कि थाने में किस पर मुकदमा दर्ज होगा। मैंने मौके पर पहुंचकर क्या उत्पात मचाया। आपकी पुलिस का साथ दिया.. मैंने कानून का साथ दिया। हमारे पीड़ित व्यापारी पर मुकदमा दर्ज कर दिया। आप मेरठ का इतिहास नहीं जानते, हम एसपी सिटी ऑफिस में बात कर रहे हैं। हमें बेवकूफ समझ रखा है। शुक्रवार को भी दो बजे का समय दिया। लेकिन मिले नहीं। हम यहां लाइन लगा देंगे। हालांकि एसपी संयम के साथ पूरी बातचीत सुनते रहे। एसपी सिटी को धमकाते हुए कहा कि यदि उन्होंने मुकदमा वापस नहीं लिया तो वह उन्हें एसपी सिटी से सिपाही बना देंगे

दरअसल हापुड़ अड्डे से सटे भगत सिंह मार्केट में बृहस्पतिवार को पुलिस ने अतिक्रमण हटवाया था। इस दौरान व्यापारी नितिन अरोड़ा और दूसरे पक्ष से महमूद में विवाद हो गया था। रात में दोनों पक्षों के लोग आमने सामने आ गए थे। दूसरे समुदाय के पक्ष ने नितिन की शॉप में घुसकर मारपीट करते हुए तोड़फोड़ कर दी। जिसके बाद सांप्रदायिक तनाव हो गया। भाजपा नेता कमलदत्त शर्मा और युवा सेवा समिति के अध्यक्ष बदर अली में तीखी नोकझोंक हुई थी। जिसके बाद पुलिस ने भाजपा नेता कमलदत्त शर्मा समेत दोनों पक्षों पर मुकदमा दर्ज किया था।