मायावती ने मोदी सरकार पर बोला हमला, मुस्लिमो को लेकर कही ये बड़ी बात-

लखनऊ | बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि वह नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) से सहमत नहीं हैं। बसपा शुरू से इसका विरोध कर रही है। सीएए पहली नजर में विभाजनकारी व असांविधानिक है। इस्लाम को छोड़ अन्य धर्मों पर सीएए लागू करना ठीक नहीं है। भारत से गए मुसलमानों के साथ भी पाक में ज्यादती हो सकती है। केंद्र सरकार को संसद का सत्र बुलाकर इस पर पुनिर्वचार करना चाहिए।

सरकार की जिद व अड़ियल रवैये के कारण ही लोगों में अनेक भ्रांतियां हैं। देश भर में हर जगह अप्रत्याशित व अभूतपूर्व विरोध हो रहा है। केंद्र ने सीएए मामले में किसी को विश्वास में नहीं लिया है। सभी को साथ लेकर चलना चाहिए। डॉ. आंबेडकर ने भारतीय संविधान को धर्मनिरपेक्ष बनाया था। एनपीआर से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि जब यह आएगा तब अपना स्टैंड बताएंगी।

मायावती ने बुधवार को यहां अपने जन्मदिन पर स्वलिखित पुस्तक ‘मेरा संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेंट का सफरनामा’ जारी की। सीएए, एनआरसी से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि ये फैसले नोटबंदी की तरह देश के 130 करोड़ लोगों के जीवन को सीधे तौर पर प्रभावित करेंगे। केंद्र सरकार को आम सहमति बनाकर नागरिकता संशोधन कानून लाना चाहिए था।