मथुरा में शुरू हुई RSS की ‘समन्वय बैठक’, देश के कई ज्वलन मुद्दों पर मंथन, गोपनीयता के कड़े प्रबंध

मथुरा | देश की बाहृय सीमाओं की सुरक्षा से लेकर आंतरिक सुरक्षा व वर्तमान आर्थिक हालात जैसे अनेक गंभीर विषयों पर चिंतन-मनन करने के लिए वृन्दावन के केशवधाम में एकत्र हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सभी आनुषांगिक संगठनों के प्रतिनिधियों की तीन दिवसीय ‘समन्वय बैठक’ भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आज यहां प्रातः 9 बजे आयोजित उद्घाटन सत्र के साथ प्रारंभ हो गई।  संघ परंपरानुसार बैठक की अध्यक्षता सर संघचालक मोहनराव मधुकरराव भागवत ने की तथा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, संगठन मंत्री रामलाल व महासचिव राममाधव विशेष रूप से उपस्थित रहे।
इस बैठक में संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी, सह सरकार्यवाहगण सुरेश सोनी, दत्रात्रेय होसबोले, कृष्ण गोपाल, वी भगैया; अखिल भारतीय कार्यकारिणी के अन्य पदाधिकारी व सदस्यगण, सभी 11 क्षेत्रों के प्रचारक व सह प्रचारक, सभी शाखाओं (बौद्धिक, शारीरिक, प्रचार, प्रसार व संपर्क आदि) के प्रमुख, भारतीय जनता पार्टी व विश्व हिन्दू परिषद सहित सभी आनुषांगिक संगठनों के 200 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।  इनमें भारतीय किसान संघ, भारतीय मजदूर संघ, सेवा भारती, राष्ट्र सेविका समिति, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, शिक्षा भारती, हिन्दू स्वयंसेवक संघ, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, स्वदेशी जागरण मंच, सरस्वती शिशु मंदिर, विद्या भारती, वनवासी कल्याण आश्रम, बजरंग दल, अनुसूचित जाति-जनजाति आरक्षण बचाओ परिषद, लघु उद्योग भारती, भारतीय विचार केन्द्र, विश्व संवाद केन्द्र, राष्ट्रीय सिख संगत, विवेकानन्द केन्द्र आदि संगठन शामिल हैं।
संघ सूत्रों के अनुसार उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए संघचालक मोहन भागवत ने बैठक में उन विषयों पर चर्चा करने तथा अपने अनुभव साझा करने को कहा जो वर्तमान देश को विभिन्न प्रकार से प्रभावित कर रहे हैं अथवा आने वाले समय में कर सकते हैं।  इनमें से अधिकांश विषय संघ के प्रवक्ता अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य मीडिया के समक्ष दो दिन पूर्व ही रख चुके हैं। जिनमें देश की सीमाओं की रक्षा से लेकर आंतरिक स्तर पर आम जीवन को प्रभावित करने वाली अन्य हिंसात्मक गतिविधियां शामिल हैं।  बताया गया है कि इनके अतिरिक्त पिछले एक वर्ष में नोटबंदी के बाद देश के सामने एक बड़े बदलाव के रूप में आईं समस्याओं के निदान खोजकर उन्हें संभावनाओं में बदलने का प्रयास करना भी है।  प्रचार प्रमुख बता चुके हैं कि संघ देश के अधिकांश लोगों को रोजगार मुहैया कराने वाले खेती व पशुपालन जैसे पारंपरिक व्यवसायों में उत्पन्न हो रही हताशा व निराशा के चलते किसानों में बढ़ती आत्महत्या की प्रवृत्ति के रोकथाम तथा उनकी आय बढ़ाने के उपायों पर भी विचार किया जाएगा।
बैठक स्थल से लेकर आसपास कई किमी के दायरे में सुरक्षाकर्मियोें का बड़ा ही सख्त पहरा बैठाया गया है। सुरक्षा के विषय पर शासन-प्रशासन कितना गंभीर है कि बैठक शुरू होने से एक दिन पूर्व गुरूवार की शाम आगरा जोन के अपर पुलिस महानिदेशक अजय आनंद, रेंज के महानिरीक्षक मुथा अशोक जैन, जिलाधिकारी अरविन्द मलप्पा बंगारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगई आदि ने बड़ी सूक्ष्मता के साथ निरीक्षण कर इंतजामात पर मुहर लगाई।  संघ पदाधिकारियों के अनुसार चूंकि समन्वय बैठक में कुछ ऐसे विषयों पर विमर्श किया जा रहा है जिन पर केंद्र जिम्मेदार पदाधिकारियों की उपस्थिति अपेक्षित है इसलिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह व वित्त एवं रक्षा मंत्री अरुण जेटली 2 सितंबर (शनिवार) को भाग लेने आएंगे।  जबकि यह बैठक उत्तर प्रदेश में संपन्न किए जाने के कारण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व दोनों उप मुख्यमंत्रियों में से कोई एक, अथवा दोनों ही उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य एवं डाॅ. दिनेश शर्मा भोजनावकाश के समय कार्यकर्ताओं से औपचारिक मुलाकात हेतु पधारेंगे।
बैठक स्थल को मथुरा, आगरा व अलीगढ़ के संघ कार्यकर्ताओं द्वारा पूरी तरह से अपनी व्यवस्था में लिया गया है। सरकारी तंत्र के होने पर भी सुरक्षा से लेकर बाकी अन्य सभी व्यवस्थाएं वे स्वयं संभाल रहे हैं।  जहां तक, गोपनीयता का सवाल है तो बैठक सभागार में प्रवेश का अधिकार ऐसे किसी भी कार्यकर्ता अथवा पदाधिकारी को नहीं है, जिसे उस क्षेत्र में जाने का आमंत्रण न मिला हो। दूसरे, सभी लोगों के मोबाइल सभागार से बाहर ही जमा करा लिए गए हैं। जिससे न तो संभाषण के दौरान व्यवधान उत्पन्न हो सके और न ही कोई भी सूचना लीक हो सके।