मेरठ : मंदिर में मिला मांस, माहौल बिगाड़ने का प्रयास

मेरठ|  मंदिर के पास बोरे में मांस भरकर फेंकने पर सांप्रदायिक तनाव हो गया। सफाई कर्मचारियों ने हंगामा कर नारेबाजी की। वहीं भाजपा नेताओं ने पुलिस की मिलीभगत से पशु कटान होने का आरोप लगाया। सूचना पर पहुंचे एसओ कोतवाली का लोगों ने घेराव किया। बाद में भाजपाइयों ने थाने में पहुंचकर हंगामा किया।
कोतवाली थाना क्षेत्र के ठठेरवाड़ा में मुख्य चौराहे से पचास कदम की दूरी पर गणेश मंदिर है। शनिवार सुबह जैसे ही सफाई कर्मचारी चौराहे पर सफाई के लिए पहुंचे तो प्लास्टिक के बारे में मांस पड़ा मिला। मांस के कुछ अवशेष बोरे के पास भी रास्ते में पड़े हुए थे। सूचना पर भाजपा पार्षद विजय आनंद, विवेक वाजपेयी, प्रवीण शर्मा, विजयवीर रस्तोगी आदि मौके पर पहुंचे और दूसरे समुदाय के लोगों पर अवैध तरीके से कटान कर मीट फेंकने का आरोप लगाकर हंगामा कर दिया। भाजपाइयों की भीड़ जुटी तो ठठेरवाड़ा में सांप्रदायिक तनाव हो गया। एसओ कोतवाली विजय गुप्ता फोर्स के साथ पहुंचे और लोगों को समझाकर शांत कराया। इस बीच एसओ ने सफाई कर्मचारी को बुलाकर मीट को ठेले में रखकर भिजवा दिया। उसके बाद आसपास के लोग कोतवाली थाने पहुंचे और हंगामा कर दिया। भाजपाइयों ने कहा कि मंदिर के पास एक सप्ताह पहले भी मांस के टुकड़े फेंककर कुछ लोगों ने माहौल बिगाड़ने की कोशिश की थी। एसओ कोतवाली का कहना है कि इस मामले में थाने में कोई तहरीर नहीं आई है। हो सकता है कि रात में या तड़के किसी से मीट गिर गया हो।
भाजपाइयों ने आरोप लगाया कि मामले में सीओ कोतवाली के एक ड्राइवर की भूमिका संदिग्ध है। जब तक उसका यहां से ट्रांसफर नहीं होगा कोतवाली में ऐसे ही अवैध पशुओं का कटान होता रहेगा। साथ ही एक सिपाही पर भी अवैध कटान कराने का आरोप लगाया है। भाजपाइयों ने इसकी शिकायत एसपी सिटी और एसएसपी से भी करने की बात कही है। वहीं सीओ कोतवाली रणविजय सिंह का कहना है कि ड्राइवर और सिपाही पर जो आरोप लगे हैं उसकी जानकारी नहीं है। यदि वह शिकायत आती है तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी