CAA हिंसा : अलीगढ़ दंगे का मुख्य आरोपी हिंदूवादी नेता विनय वार्ष्णेय एटा जेल शिफ्ट, तारिक की मौत से शहर में हाई अलर्ट

अलीगढ़ । CAA के विरोध में हुए प्रदर्शन में बवाल के बाद गोली लगने से घायल तारिक की मौत के बाद शहर में हालात तनावपूर्ण हैं । अलीगढ़ दंगे के मुख्य आरोपी भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व महामंत्री विनय वार्ष्णेय को गुरुवार तड़के पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था । वहीं गोली लगने से घायल तारिक ने शुक्रवार देर रात्रि जेएन मेडिकल कालेज में दम तोड़ दिया । तारिक की मौत की ख़बर से शहर में हाई अलर्ट कर दिया गया । प्रशासन ने चप्पे चप्पे पर फोर्स तैनात कर दी है ।

वहीं जेल प्रशासन ने विनय को शुक्रवार को एटा जेल में शिफ्ट कर दिया है। एटा जेल में भी उसे कड़ी सुरक्षा में रखा गया है। वहीं कोरोना वायरस के चलते विनय को अभी बंदियों के साथ न रखकर स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रखा गया है। शुक्रवार को उनसे यहां कोई मिलने नहीं पहुंचा।

मंडल मुख्यालय पर 23 फरवरी को नागरिकता संसोधन कानून को लेकर ऊपरकोट पर धरना दे रहीं महिलाओं को पुलिस द्वारा जबरन उठाए जाने के बाद दंगा भड़क गया था। इसमें दोनों पक्षों की ओर से पथराव और फायरिंग की गई थी। आरोप है कि विनय वार्ष्णेय ने भी इस दौरान फायरिंग की, जिसमें तारिक नामक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था । विनय की गिरफ्तारी का भाजपा और हिंदू संगठनों ने विरोध किया पर मुख्यमंत्री की जीरो टॉलरेंस की नीति के चलते विनय को पुलिस ने बृहस्पतिवार को गिरफ्तार कर लिया। वहां सुरक्षा के दृष्टिगत महफूज न पाते हुए एटा जेल में शिफ्ट कर दिया गया है।